राज्यसभा की 55 सीटें हो रहीं खाली, इन 17 राज्यों की सीटों पर 26 मार्च को चुनाव

खास बातें राज्यसभा की 55 सीटें हो रहीं खाली 6 मार्च को जारी होगी अधिसूचना 26 मार्च, 2020 को होंगे चुनावराज्यसभा (Rajya Sabha) की अप्रैल में रिक्त हो रही 55 सीटों के लिए 26 मार्च को चुनाव होंगे. आयोग ने कहा कि राज्यसभा में 17 राज्यों की 55 सीटें सदस्यों का कार्यकाल पूरा होने व अन्य वजहों के कारण अप्रैल में अलग-अलग तारीखों को खाली हो रही हैं. महाराष्ट्र (7), ओडिशा (4), तमिलनाडु (6) और पश्चिम बंगाल (5) की सीटें दो अप्रैल को खाली हो रही हैं. मेघालय की एक सीट 12 अप्रैल को खाली हो रही है. गौरतलब है कि लोकसभा सदस्य चुने जाने के बाद अमित शाह ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.

Source:NDTV

February 25, 2020 09:45 UTC


रांची / 13 वर्षीय बच्ची के साथ लंबे समय से दुष्कर्म करने का आरोपी गिरफ्तार

पीड़िता की तबीयत खराब होने के बाद परिजन उसे अस्पताल ले गए तो पता चला वह गर्भवती हैआरोपी शाहिद पिछले कई माह से पीड़िता के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दे रहा थाDainik Bhaskar Feb 25, 2020, 03:24 PM ISTरांची. मांडर थाना क्षेत्र से पुलिस एक 13 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म के आरोपी को गिरफ्तार कर मंगलवार को जेल भेज दिया। पीड़िता के परिजनों ने थाने में आरोपी के खिलाफ यौन शोषण का मामला दर्ज कराया। इसके बाद आरोपी की गिरफ्तारी की गई।आरोपी शाहिद अपने घर में ही मदरसा चलाता था। पीड़िता को मदरसा में पढ़ाने की बात कहते हुए बुलाता था और मौका देख उसके साथ दुष्कर्म की घटना काे अंजाम देता था। पीड़िता की अचानक तबीयत खराब होने के बाद परिजन जब उसे लेकर अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि वह गर्भवती है। इसके बाद परिजनों ने जब बच्ची से पूछताछ की तो पूरा मामला उजागर हुआ। पुलिस ने पीड़िता को मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेजा।आरोपी पहले भी पीड़िता का करा चुका है गर्भपातपुलिस जांच में इस बात की जानकारी मिली है कि आरोपी शाहिद पिछले कई माह से पीड़िता के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दे रहा था और मामले में कुछ नहीं बताने की बात कहते हुए उसे डरा धमका कर घर भेज देता था। आरोपी से पीड़िता काफी डरी सहमी हुई थी, जिसकी वजह से मामले में वह किसी को कुछ बताने की स्थिति में नहीं थी। आरोपी इससे पहले पीड़िता का गर्भपात भी करा चुका है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

February 25, 2020 09:44 UTC


चेतन भगत ने दिल्ली के हालात पर साधा निशाना, बोले- पापा मेहमानों के साथ ड्राइंग रूम में बैठे हैं और...

खास बातें चेतन भगत ने देश के मौजूदा हालातों पर किया ट्वीट चेतन भगत ने कहा कि पापा मेहमानों के साथ ड्राइंग रूम में बैठे हैं... चेतन भगत का ट्वीट सोशल मीडिया पर हुआ वायरलदिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर प्रदर्शन जारी है. हाल ही में इस मुद्दे पर चेतन भगत (Chetan Bhagat) ने ट्वीट किया है, जिसने सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोरी हैं. चेतन भगत ने ट्वीट में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे की ओर भी इशारा किया है. चेतन भगत ने अपने ट्वीट के जरिए दिल्ली के साथ-साथ देश के हालातों पर निशाना साधने की कोशिश की है. दिल्ली हिंसा को लेकर विशाल भारद्वाज का Tweet, बोले- अंडा,मछली छूकर जिनको पाप लगे, उनका पूरा हाथ लहू में...वहीं दिल्ली की बात करें तो शहर में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर भड़की हिंसा में भजनपुरा के पास चांदबाग में रतनलाल नाम के हेड कांस्टेबल की मौत हो गई है.

Source:NDTV

February 25, 2020 09:34 UTC


China's main manufacturing hubs reboot after virus shutdown

As many parts of China ease coronavirus travel curbs, main manufacturing hubs in the east and south are seeing hundreds of thousands of migrant workers returning to work and more traffic on the roads during rush hours.Mainland China reported nine new coronavirus cases outside the epicentre of Hubei on Monday, the lowest since the national health authority started publishing nationwide daily figures on January 20.Several provinces have lowered their coronavirus emergency response measures, allowing more flexibility on transportation and helping firms resume production.About 180 million workers have left their hometowns to return to work since Feb 10, when China ended the prolonged Lunar New Year holiday due to the virus outbreak, according to Reuters calculations based on transportation ministry data.At the current daily travel flow rate of more than 14 million people, about 192 million people are likely to return to cities where they work during the last two weeks in February, beating a government projection of 120 million.Data compiled by China's internet giant Baidu Inc shows that Guangdong province, an economic and export powerhouse in the south, and Zhejiang province, a major manufacturing hub for textile and machines in the east, are seeing significantly more inflows of migrant workers since last week.Guangdong government said it has sent nearly 200 chartered trains in the past two weeks to bring more than 6,000 migrant workers back from their inland hometowns. "Guangdong is prioritising production resumption at information technology , automobile, petrochemicals and household appliances firms... especially Huawei , ZTE, Midea and GAC Group," said a senior Guangdong official at a press briefing on Saturday.Shenzhen, headquarters of Huawei and known as China's Silicon Valley, has seen migrant flows picking up to the highest level after the Lunar New Year holiday, although it is still well below travel flows during peak days last year.Urban transport in Shenzhen also shows a sharp rise this week. According to Shenzhen traffic police data, 420,900 cars were tracked on roads during morning peak hours on Monday, up 58% compared to the same period last week.That remains 40% less traffic than a normal Monday before the coronavirus outbreak, as Chinese authorities are still encouraging employees to work remotely to reduce the risk of virus spread.Location technology firm TOMTOM's traffic index also shows a climb in congestion levels in Shenzhen and other major cities, including the capital Beijing and financial centre Shanghai , this week.Guangdong province added 30,000 firms to its business resumption list last week, compared to only 12,000 firms the week before.Even as companies return to work, production levels remain behind what they would normally be due to supply chain disruptions, curbed demand, and spotty labour shortages.Foxconn, one of the most important contract manufacturers for Apple Inc has yet to resume production at full capacity. The iPhone maker recently lowered its revenue guidance for the quarter due to sourcing and production issues in China.China Southern Power Grid , power supplier of Guangdong, said the province consumed 5.58 bln kilowatt-hours electricity in the week of Feb.16, up 17.3% from the week of Feb.9. Power consumption at industrial firms rose 62.1% on the week, and rose 15% at information technology firms.The grid has not yet revealed the power data for the week of Feb. 23.Daily coal consumption at six major coal-fired power groups across China rose to 427,000 tonnes on Monday, the highest level for nearly a month, but still 34% lower than the same period last year.

February 25, 2020 09:22 UTC


क्रिकेट / शाहिद अफरीदी ने कहा- सिर्फ मोदी की वजह से भारत-पाकिस्तान क्रिकेट नहीं हो रही, उनकी सोच नकारात्मक

अफरीदी ने हाल ही में युवराज सिंह के साथ एक वीडियो शेयर किया था, इसमें दोनों देशों के क्रिकेट रिश्ते बहाल करने की मांग की थीअफरीदी पहले भी भारत और प्रधानमंत्री मोदी को लेकर आपत्तिजनक बयान दे चुके हैं, गौतम गंभीर का भी उन्होंने मजाक उड़ाया थाDainik Bhaskar Feb 25, 2020, 03:13 PM ISTखेल डेस्क. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने आरोप लगाया है कि भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट संबंधों में नरेंद्र मोदी बाधक हैं। सोमवार को पाकिस्तान के एक स्पोर्ट्स चैनल को दिए इंटरव्यू में अफरीदी ने भारत के प्रधानमंत्री को नकारात्मक सोच का व्यक्ति करार दिया। कहा- मोदी के रहते दोनों देशों के क्रिकेट रिश्ते बहाल नहीं हो सकते।कुछ दिनों पहले शाहिद ने युवराज सिंह के साथ एक वीडियो शेयर किया था। इसमें युवी ने भी भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट रिश्ते बहाल करने की मांग की थी। सिंह ने कहा था कि इसमें एशेज से भी ज्यादा रोमांच होगा।‘मोदी हैं तो नामुमकिन है..’अफरीदी ने सोमवार को ट्रिब्यून पाकिस्तान के स्पोर्ट्स चैनल को इंटरव्यू दिया। एंकर ने उनसे पूछा- युवराज समेत भारत के कई खिलाड़ी चाहते हैं कि दोनों देशों मे क्रिकेट संबंध बहाल हों। आप इस पर क्या कहना चाहेंगे? इस पर अफरीदी ने कहा, “जब तक मोदी सत्ता में हैं, मुझे नहीं लगता कि भारत की तरफ से कोई सकारात्मक जवाब मिलेगा। हम सभी जानते हैं कि मोदी की सोच क्या है। वो हमेशा नकारात्मक विचार रखते हैं। एक बात साफ है कि भारत और पाकिस्तान के रिश्ते सिर्फ एक शख्स की वजह से बिगड़े। कोई भी ये नहीं चाहता।”मुझे नहीं पता मोदी क्या चाहते हैं: अफरीदीएक अन्य सवाल के जवाब में अफरीदी ने कहा, “दोनों मुल्कों के लोग एक-दूसरे के यहां जाना चाहते हैं। लेकिन, मुझे ये समझ नहीं आता कि नरेंद्र मोदी क्या चाहते हैं? जहां तक क्रिकेट की बात है तो मैं बता दूं कि भारतीय क्रिकेट को आईपीएल ने बदल दिया है। वहां युवा काफी अच्छा खेल रहे हैं।”दोनों देशों के बीच 2012-13 में आखिरी सीरीज खेली गईभारत और पाकिस्तान के बीच आखिरी द्विपक्षीय सीरीजी 2012-13 में खेली गई थी। भारत ने आखिरी बार 2006 में पाकिस्तान का दौरा किया था। 26/11 के मुंबई हमले के बाद दोनों देश सिर्फ आईसीसी के टूर्नामेंट्स में साथ खेलते नजर आते हैं।

February 25, 2020 09:20 UTC


विशाल भारद्वाज का दिल्ली हिंसा को लेकर Tweet, बोले- अंडा,मछली छूकर जिनको पाप लगे, उनका पूरा हाथ लहू में...

खास बातें विशाल भारद्वाज का ट्वीट हुआ वायरल दिल्ली हिंसा पर विशाल भारद्वाज ने किया ट्वीट हिंसा करने वाले लोगों पर साधा निशानानागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर दिल्ली में लगातार हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं. सोमवार को दिल्ली के भजनपुरा, गोकुलपुरी, चांदबाग, मौजपुर और जाफराबाद इलाके में हुई हिंसा में एक पुलिस कांस्टेबल समेत 5 लोगों की मौत हो गई. विशाल भारद्वाज (Vishal Bhardwaj) ने अपने ट्वीट के जरिए हिंसा कर रहे लोगों पर निशाना साधा है. विशाल भारद्वाज के इस ट्वीट पर लोग खूब कमेंट कर रहे हैं और अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. दिल्ली में भड़की हिंसा को लेकर बॉलीवुड एक्टर ने किया ट्वीट, बोले- मोदी को वोट न देने की वजह से...बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर भड़की हिंसा में दिल्ली के भजनपुरा के पास चांदबाग में रतनलाल नाम के हेड कांस्टेबल की मौत हो गई है.

Source:NDTV

February 25, 2020 09:11 UTC


दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा पर अब भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान आया है. तिवारी ने कहा कि ऐसे मौके पर किसी को भी भड़काऊ भाषण देने से परहेज करना चाहिए. एनडीटीवी से बात करते हुए उन्होंने कहा, 'भारतीय जनता पार्टी में सभी लोगों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वह शांति के लिए कोशिश करें. लोगों को भ्रमित करके उकसाया जा रहा है जो लोग आम लोगों को भड़का रहे हैं उन्हें चिन्हित किया जाए.' हर राजनीतिक दल को शांति स्थापित करने के लिए हर संभव कोशिश करनी चाहिए .पुलिस को निर्देश दिया गया है कि वह जनप्रतिनिधियों की तरफ से किसी भी जानकारी पर तुरंत कार्रवाई करें.

Source:NDTV

February 25, 2020 09:07 UTC


Govt may extend deadline to bid for Air India

The government is likely to extend the March 17 deadline for submitting bids to buy 100 per cent stake in Air India and the Home Minister led inter-ministerial panel will later this week decide on the new date.Interested bidders can now have access to the "virtual data room" of Air India, officials said adding that more queries are expected to come in, which would be clarified by the Transaction Advisor and the Ministry of Civil Aviation.The government has already extended the deadline for bidders to raise queries on the proposed strategic sale of Air India to March 6 from February 11.Officials told PTI that the ministerial panel on Air India would meet later this week and decide on the new date for submission of Expression of Interest (EoI) by interested bidders.The interested bidders can now get access to the virtual data room, which would also have the draft share purchase agreement (SPA), by paying a non-refundable fees of Rs 1 crore.The ministerial panel - Air India Specific Alternative Mechanism (AISAM)- is headed by Home Minister Amit Shah and comprises Finance Minister Nirmala Sitharaman, Commerce and Railway Minister Piyush Goyal and Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri as other members.The government on January 27 issued the Preliminary Information Memorandum (PIM) inviting EoI for sale of 100 per cent stake in Air India. On February 21, it issued the first set of clarification answering queries regarding the 'confidentiality undertaking'.The Department of Investment and Public Asset Management (DIPAM), which is overseeing the strategic sale of Air India, clarified that bidders will have the flexibility to change the structure of the consortium from the time of signing of non-disclosure pact for access to data room till submission of EoI.It also clarified that a bidder and its affiliate are not allowed to put in bids separately and can only submit EoI as a consortium.The government last month restarted the divestment process of Air India and invited bids for selling 100 per cent of its equity in the state-owned airline, including Air India's 100 per cent shareholding in AI Express and 50 per cent in Air India SATS Airport Services Private Ltd.Interested bidders for Air India should have a net worth of Rs 3,500 crore.After its unsuccessful bid to sell Air India in 2018, the government this time has decided to offload its entire stake. In 2018, the government had offered to sell its 76 per cent stake in the airline.Of the total debt of Rs 60,074 crore as on March 31, 2019, the buyer would be required to absorb Rs 23,286.5 crore, while the rest would be transferred to Air India Assets Holding Ltd (AIAHL), the special purpose vehicle.As a precursor to Air India sale, the Cabinet in February 2019 approved setting up AIAHL to transfer Rs 29,464 crore worth loans of the national carrier and its four subsidiaries-- Air India Air Transport Services (AIATSL), Airline Allied Services (AASL), Air India Engineering Services Ltd (AIESL) and Hotel Corporation of India (HCI).Also non-core assets - painting and artifacts - as well as other non-operational assets of the national carrier too will be transferred to the SPV

February 25, 2020 09:00 UTC


डोनाल्ड ट्रंप अपने ऊंचे कद की वजह से नहीं देख पाए शाहजहां की असली कब्र

दो-दिवसीय भारत यात्रा पर आए अमेरिका के राष्ट्रपति (POTUS) डोनाल्ड ट्रंप सोमवार को अहमदाबाद में 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद देश की राजधानी दिल्ली पहुंचने से पहले आगरा भी गए थे, जहां उन्होंने अपनी पत्नी तथा अमेरिका की प्रथम महिला (FLOTUS) मेलानिया ट्रंप के साथ प्रेम का प्रतीक कहे जाने वाले मुगलकालीन ताजमहल की खूबसूरती का भी दीदार किया, लेकिन ट्रंप दंपति ताजमहल में लगभग एक घंटा बिताने के बावजूद मुगल बादशाह शाहजहां तथा उनकी पत्नी मुमताज़ की वास्तविक कब्र देखने के लिए नहीं गए. दिल्ली CAA हिंसा: चिदंबरम बोले- 1955 से लागू था नागरिकता कानून, अब संशोधन की जरूरत क्यों पड़ी? ऐतिहासिक महत्व वाले मकबरे ताजमहल में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तथा उनकी पत्नी मेलानिया के साथ गाइड की हैसियत से रहे नितिन कुमार सिंह ने बताया, "डोनाल्ड ट्रंप ताजमहल की खूबसूरती से पूरी तरह मंत्रमुग्ध दिखे... लेकिन वह मुगल बादशाह शाहजहां तथा उनकी पत्नी मुमताज़ की वास्तविक कब्रें देखने के लिए नहीं गए, क्योंकि उनके (डोनाल्ड ट्रंप के) सुरक्षाधिकारियों का मानना था कि अमेरिकी राष्ट्रपति को वहां जाने से चोट लगने का खतरा है, क्योंकि वास्तविक कब्रों की तरफ जाने वाला रास्ता काफी संकरा और कम ऊंचाई वाला है..."इवांका ट्रंप से लेकर दीपिका पादुकोण और करीना कपूर तक, इन फैशनिस्टा से सीखें कैसे बंधगला लुक को दें ट्विस्टगौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति छह फुट तीन इंच ऊंचे हैं, इसलिए उनकी सुरक्षा के लिए तैनात अधिकारियों ने उन्हें कब्रों तक नहीं जाने की सलाह दी थी. इस आगरा यात्रा में POTUS तथा FLOTUS के अलावा राष्ट्रपति की पुत्री इवान्का तथा उनके पति जैरेड कुशनर भी शामिल थे, और उन्होंने भी ताजमहल का दौरा किया.

Source:NDTV

February 25, 2020 08:48 UTC


Tags
Finance      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       Online test prep
  

Loading...