कोरोना अलर्ट / बैंककर्मियों की आज से होगी रैंडम सैंपलिंग

दैनिक भास्कर Jun 06, 2020, 05:39 AM ISTगंगापुर सिटी. शहर सहित आसपास के क्षेत्र में संचालित विभिन्न बैंक शाखाओं में कार्यरत बैंक कर्मचारियों की रैंडम सैंपलिंग शनिवार से की जाएगी। बैंक कर्मियों द्वारा निरंतर कोविड 19 में तीन महीनों से काम किया जा रहा है, लेकिन उनकी कोरोना की रैंडम सैंपलिंग नहीं हो रही थी। इस संबंध में भास्कर ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की। इस पर लीड डिस्ट्रिक्ट मैनेजर (एलडीएम) सवाई माधोपुर ने भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद एडीएम गंगापुर से संपर्क किया और सभी बैंक कर्मियों के सैंपल लेकर जांच करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि बैंकों में पिछले कई दिनों से कामकाज चल रहा है और बैंक के कर्मचारी भी अधिक से अधिक लोगों के संपर्क में आ रहे हैंं। इस पर एडीएम गंगापुर ने ब्लॉक सीएमएचओ व पीएमओ को कर्मचारियों के रैंडम सैंपलिंग लेने के निर्देशित किया। साथ बैंकों के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि उन सभी कर्मचारियों के नाम व अन्य जानकारी सूचीबद्ध कर पीएमओ गंगापुर को उपलब्ध करवा देंवे, ताकि शनिवार को उन सभी के सैंपल लिए जा सकें। भास्कर संवाददाता ने जब इस संबंध में स्थानीय स्तर पर शाखा प्रंबंधकों से बात की तो उन्होंने बताया कि यह एक अच्छा निर्णय है और इससे उनका व उनका परिवार सुरक्षित रहेगा। प्रशासनिक अधिकारियों ने बैंकों में कर्मचारियों के रैंडम सैंपलिंग के निर्देश दे दिए हैं और इसके लिए ब्लाक मुख्य चिकित्सा अधिकारी और पीएमओ को आवश्यक निर्देश दे दिए हैं।

June 06, 2020 00:11 UTC


मांग / मनमाने आदेशों की जांच कराने की मांग, शिक्षकों ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

दैनिक भास्कर Jun 06, 2020, 05:38 AM ISTगंगापुर सिटी. राजस्थान राजपत्रित अधिकारी संघ विद्यालय शिक्षा द्वारा 23 मार्च से अब तक विभिन्न प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा शिक्षकों की गरिमा को ताक पर रखकर निकाले गए मनमाने आदेशों की जांच कराने की मांग की है। साथ ही इस संबंध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया है।संघ के प्रदेशाध्यक्ष करणदान रत्नू, प्रदेश महामंत्री मोहम्मद हारून, प्रदेश संयुक्त महामंत्री कपिल भार्गव, प्रदेश संगठन मंत्री हनुमान गोयल व जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर शर्मा ने बताया कि न्यायालय तथा मानव संसाधन मंत्रालय भारत सरकार के आदेश के द्वारा शिक्षकों की सभी गैर शैक्षिक कार्यों में ड्यूटी लगाने तथा गैर शैक्षिक कार्य करवाए जाने पर प्रतिबंध लगा रखा है। इसके उपरांत भी विभिन्न प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा&ठ्ठड्ढह्यश्च; अपने स्तर पर नियम विरुद्ध व मनमाने ढंग से ड्यूटियां लगाई जा रही है।इनमें शिक्षकों की टिड्डी भगाने, ट्रेन के लिए रेलवे स्टेशन पर ड्यूटी, शादी में सोशल डिस्टेंस बनाए रखने, क्वारंटाइन सेंटर में मनोरंजन करने, शहर में प्रवेश करने वाले प्रवासियों की जांच के लिए चेकपोस्ट पर, खाद्य सुरक्षा सूची में नाम जोड़ने व हटाने, खाद्य सुरक्षा सूची में लाभार्थियों को सूची में शामिल कराने और अब तो यहां तक कि जिला कलेक्टर करौली द्वारा आवारा पशुओं गाय, बैल, सांड, बछड़े आदि का विभिन्न वार्ड, गलियों, सार्वजनिक स्थलों पर सर्वे करने की ड्यूटी तक राजपत्रित शिक्षकों की लगाई जा रही है।ऐसा लगता है कि शिक्षा विभाग के राजपत्रित अधिकारियों के अपमान करने के लिए इस तरह ड्यूटी लगाई जा रही है जिससे राजपत्रित वर्ग जिनमें व्याख्याता, प्रधानाचार्य व जिला शिक्षा अधिकारी (समकक्ष मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी) आदि में संपूर्ण शिक्षा विभाग परिहास का केंद्र बनता जा रहा है। साथ ही इससे शिक्षकों को मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जा रहा है। जिलाध्यक्ष शर्मा ने बताया शिक्षक वर्ग में नाराजगी का माहौल है।

June 06, 2020 00:00 UTC


पहल / घर-घर कचरा संग्रहण व्यवस्था के लिए साइकिल रिक्शा को दिखाई हरी झंडी

सभापति ने शहर में सफाई व्यवस्था का लिया जायजादैनिक भास्कर Jun 06, 2020, 05:35 AM ISTगंगापुर सिटी. सभापति संगीता बोहरा ने शुक्रवार को परिषद क्षेत्र में सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान शहर की सफाई व्यवस्था एवं घर-घर कचरा संग्रहण व्यवस्था का सभापति बोहरा ने जायजा लिया। पूर्व में वार्डों एवं कालोनियों में ऑटोटिपरों के माध्यम से कचरा संग्रहण व्यवस्था लागू थी और यह निरंतर वर्तमान में भी संचालित है।इसके अलावा शहर की सफाई कार्य व्यवस्था में ओर सुधार करने एवं सुदृढ़ीकरण के लिए प्रत्येक गली, मोहल्लों, वार्डों में घर-घर कचरा संग्रहण के लिए साइकिल रिक्शा के माध्यम से घर-घर कचरा संग्रहण किए जाने के उद्देश्य से शुक्रवार को सभापति ने साइकिल रिक्शाओं को हरी झंडी देकर रवाना किया। साथ ही सभी साइकिल रिक्शाओं को नियमित रूप से घर-घर कचरा संग्रहण करने के लिए पाबंद किया। इसके अलावा वर्षाकाल से पूर्व शहर के सभी छोटे-बड़े नालों की सफाई करने के लिए भी नगर परिषद कार्मिकों को सभापति ने निर्देश दिए। इस दौरान पार्षद रेणू आर्य, जगदीश वकील, समाजसेवी कौशल बोहरा एवं नगर परिषद कार्मिक सहित कई लोग मौजूद थे।श्री हनुमानजी गोशाला समिति की साधारण सभा 8 कोगंगापुर सिटी | 108 फुटीय श्री हनुमानजी गोशाला समिति की साधारण सभा की बैठक 8 जून को सुबह 11 बजे से समिति कार्यालय गोशाला प्रांगण में आयोजित की जाएगी। समिति मंत्री विजयसिंह राजपूत ने बताया कि समिति कार्यकारिणी के नए चुनाव कराने और गोशाला की व्यवस्थाओं पर चर्चा करने के लिए आमसभा रखी गई है। उन्होंने सभी सदस्यों से आमसभा में उपस्थित रहने का आग्रह किया है।

June 06, 2020 00:00 UTC


दावा / कोरोना से जंग में होम्योपैथी कारगर : डॉ. मानव जैन

दैनिक भास्कर Jun 06, 2020, 05:31 AM ISTगंगापुर सिटी. पूरी दुनिया इस समय भय और आशा के बीच कोरोना से जंग लड़ रही है। भय इस बात का है कि कोरोना से कैसे लड़ा जाए और उम्मीद इस बात की है कि आने वाले दिनों में इस महामारी का वैक्सीन मिल जाए, लेकिन तब तक हमें अपने स्तर पर इस महामारी से बचना एवं लड़ना होगा। होम्योपैथी चिकित्सक डॉ. मानव जैन ने बताया कि कोरोना की लड़ाई उन लोगों के लिए आसान होगी, जिनका इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है लेकिन सवाल यह है कि कोरोना महामारी के समय इम्यून सिस्टम कैसे मजबूत बनाया जाए, जिससे कोरोना से बचाव किया जा सके।डॉ. जैन ने बताया कि यह वायरस बहुत ही सूक्ष्म एवं प्रभावी है, जिसका संक्रमण तेजी से दुनियाभर में फैल रहा है। इस संक्रमण में जुकाम, बुखार से लेकर खांसी व श्वांस लेने जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया।कोरोना वायरस खांसी व छींक से गिरने वाली बूंदों के जरिए एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रुरत है, ताकि इसे फैलने से रोका जा सके। कोरोना वायरस में पहले बुखार होता है उसके बाद सूखी खांसी होती है, फिर एक सप्ताह बाद श्वांस लेने से परेशानी हो सकती है। इन लक्षणों का हमेशा यह मतलब नहीं है कि आपको कोरोना का संक्रमण है। कोरोना के गंभीर मामलों में निमोनिया, श्वांस लेने में बहुत ज्यादा तकलीफ व किडनी फैल होना जैसी समस्याएं देखी गई हैं। जिन मरीजों में पहले से अस्थमा, मधुमेह व हृदय रोगों की समस्या है उनके लिए खतरा गम्भीर हो सकता है। एक कहावत है कि बचाव, उपचार से बडा होता है।स्वास्थ्य मंत्रालय ने वायरस से बचाव के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। लोगों को चाहिए कि हाथों को साबुन से धोएं, एल्कोहल आधारित हैण्ड सेनेटाइजर का प्रयोग करें, खांसते व छींकते समय मुंह पर कपड़ा रखें, मास्क का नियमित प्रयोग करें। संक्रमित व्यक्ति से दूरी बनाकर रखें तथा भीड़ मे जाने से बचें।कोरोना वायरस के उपचार व बचाव में होम्योपैथी दवा बडी कारगर साबित हो रही है। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क होम्योपैथिक दवा का वितरण बचाव के लिए किया जा रहा है। हाल ही में होम्योपैथिक विश्वविद्यालय द्वारा एसएमएस एवं महिला चिकित्सालय जयपुर में 42 कोरोना संक्रमित मरीजों का उपचार सफलतापूर्वक किया गया है।

June 06, 2020 00:00 UTC


पैदा हुई तो बच्ची का वजन 665 ग्राम था, ढाई महीने के इलाज के बाद दो किलो की हुई, अब घर पहुंची - Dainik Bhaskar

पिछले 17 मार्च काे बच्ची का एक दूसरे अस्पताल में जन्म हुआ था तब उसका वजन 665 ग्राम था25 सप्ताह में ही हो गया था प्रसव, शुक्रवार काे बच्ची को हाॅस्पिटल से छुट्टी दे दी गईदैनिक भास्कर Jun 06, 2020, 08:23 AM ISTश्रीगंगानगर. श्रीगंगानगर में श्रीकरणपुर की प्री-मेच्याेर बच्ची काे ढाई माह के इलाज के बाद नया जीवन मिला है। 17 मार्च काे बच्ची का जन्म हुआ था तब उसका वजन 665 ग्राम था। इसके बाद बच्ची का यहां के मेदांता अस्पताल में ढाई महीने तक इलाज चला। डाॅक्टराें की देखरेख में बच्ची का वजन 665 ग्राम से बढ़कर 1 किलाे 950 ग्राम हाे गया। अब बच्ची स्वस्थ है और शुक्रवार काे उसे हाॅस्पिटल से छुट्टी भी दे दी गई।25 सप्ताह में ही हो गया था प्रसवडाॅ. भवनदीप गर्ग ने बताया कि बच्ची की हालत बेहद नाजुक थी, प्रीमेच्योर बच्चे की श्रेणी में ऐसा केस बहुत ही कम देखने को मिलता है। ऐसे केस मे बचने की संभावना 30 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होती। बच्ची काे सघन चिकित्सा इकाई में वेंटिलेटर एवं सी-पैप पर रखा गया।बच्चे को कैसे रखें सुरक्षित :हॉस्पिटल में बच्चे को गर्म रखने के लिए इन्हें इनक्यूबेटर में रखा जाता है। घर आने के बाद बच्चे को मां का स्पर्श ही गर्म रखता है। उसे गर्म कपड़े पहनाएं और अपनी त्वचा का स्पर्श देते रहें। लेकिन गर्म कपड़े इतने भी न हों कि उसे सांस लेने में समस्या हो जाए।शिशु के कमरे में जाने से पहले हाथों को अच्छी तरह साफ करें, मास्क लगाएं और जूते-चप्पल बाहर उतार कर जाएं। उसके कमरे में बाहरी लोगों का आवागमन कम होना चाहिए। मां को शिशु से लगातार बात करनी चाहिए, ताकि वह सुरक्षित महसूस करे।समय-पूर्व प्रसव से बचने के लिए इन गाइडलाइंस का पालन करें

June 05, 2020 22:41 UTC


Tags
Finance      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       Online test prep Corona       Crypto      Vpn     
  

Loading...