जम्मू-कश्मीर / खुफिया एजेंसियों का अलर्ट- पाकिस्तानी सेना घुसपैठ कराने के लिए एलओसी के नजदीक तालिबानी आतंकियों को ट्रेंड कर रही

पाकिस्तानी सेना की 28 सिंध बटालियन की देखरेख में 4 आतंकी, इसमें 2 तालिबानीएजेंसियों ने बताया- अफगानिस्तान में भी 20 आतंकी कश्मीर में घुसपैठ के लिए तैयार किए जा रहेदैनिक भास्कर Jun 05, 2020, 09:57 PM ISTनई दिल्ली. पाकिस्तानी सेना अब तालिबानी आतंकियों को कश्मीर में भेजने के लिए ट्रेनिंग दे रही है। खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षाबलों को इस बारे में सतर्क किया है। एजेंसियों ने बताया कि लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) के उस पार पाकिस्तानी सेना के साथ चार आतंकी कैंप कर रहे हैं, इसमें से दो तालिबानी हैं। आतंकी नौशेरा सेक्टर के सामने पाकिस्तानी सेना की 28 सिंध बटालियन की जिम्मेदारी में हैं और घुसपैठ की साजिश रच रहे हैं।इससे पहले सुरक्षाबलों ने घाटी में अभियान चलाकर आकंतियों का खात्मा कर दिया है। इससे जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के तालिबानी आतंकियों और दूसरे आतंकी संगठनों को बड़ा झटका लगा है।एक शीर्ष पुलिस अफसर ने न्यूज एजेंसी को बताया कि अफगानिस्तान के कुछ जिलों में तालिबान की ताकत बढ़ी है, इसके चलते तालिबानी आतंकियों की संख्या बढ़ी है। पाकिस्तानी सेना का स्पेशल सर्विस ग्रुप (एसएसजी) इन आतंकियों को कश्मीर में हमले अंजाम देने के लिए ट्रेनिंग दे रहा है।अफगानिस्तान के नंगरहार में करीब 20 तालिबानी आतंकीखुफिया एजेंसी ने बताया कि अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में 20 तालिबानी आंतकियों के ग्रुप को एएएसजी कश्मीर मिशन के लिए तैयार कर रहा है। पाकिस्तान को तालिबानी आतंकवादियों को शरण देने के लिए जाना जाता है। यहां तक कि अलकायदा जैसे आतंकवादी संगठन को भी मदद पहुंचाता रहा है। अलकायदा ने जलालाबाद में पाकिस्तानी सेना और आईएसआई की खुफिया एजेंसी की मदद से आतंकी कैंप बनाए हैं।बड़ा खतरा सुसाइड स्क्वॉडअधिकारियों ने कहा, ‘‘बड़ा खतरा तालिबान का सुसाइड स्क्वॉड (आत्मघाती दस्ता) है, जिसे पाकिस्तान कश्मीर के लिए तैयार कर रहा है। एजेंसियों के इनपुट से पता चलता है कि पाकिस्तानी की खुफिया एजेंसी आईएसआई भी इसमें शामिल है क्योंकि बिना उसके सहयोग के इन आतंकियों का बार्डर क्रॉस करना संभव नहीं है।’’अफगानिस्तान में पाकिस्तान के 6000 से 6500 आतंकीसंयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एनॉलिटिकल सपोर्ट और सैंक्शंस मॉनीटरिंग टीम की रिपोर्ट में कहा गया था कि तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा ऐसे ग्रुप हैं, जो इस क्षेत्र में सुरक्षा के लिए खतरा हैं। इन समूहों का केंद्र अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत कुनार, नंगरहार और नूरिस्तान में है। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का नेतृत्व नूर वली महसूद करता है। इसका डिप्टी कारी अमजद है।माना जाता है कि कुनार में इस ग्रुप के लगभग 500 और नंगरहार में करीब 180 आतंकी हैं। इसी हफ्ते जारी हुई एक रिपोर्ट में बताया गया था कि अफगानिस्तान में आतंकी समूहों के साथ लड़ने वाले पाकिस्तानी नागरिकों की संख्या 6000 से 6500 तक है।

June 05, 2020 16:07 UTC


अमेरिका / राष्ट्रपति ट्रम्प का दावा- कोरोना वैक्सीन के 20 लाख से ज्यादा डोज तैयार, महामारी के चलते देश में सबसे खराब स्थिति

राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा- कोरोना वैक्सीन के सुरक्षा जांच में पास होते ही, इनका ट्रांसपोर्टेशन शुरू कर दिया जाएगासरकार ने कहा- मई महीने में 25 लाख लोगों को रोजगार मिला, बेरोजगारी दर 14.7% से कम होकर 13.3% हुईदैनिक भास्कर Jun 05, 2020, 09:39 PM ISTवॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को कहा कि कोरोनावायरस के चलते देश सबसे खराब स्थिति से गुजर रहा है। दुनिया के इतिहास में हमारी अर्थव्यवस्था सबसे बेहतर थी। उन्होंने बताया कि महामारी से निपटने के लिए वैक्सीन के 20 लाख से ज्यादा डोज तैयार हैं।वैक्सीन के सुरक्षा जांच में पास होते ही, इनका ट्रांसपोर्टेशन शुरू कर दिया जाएगा। हम इसके लॉजिस्टिक के लिए भी पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन को लेकर गुरुवार को हमारी बैठक हुई थी। हम अविश्वसनीय रूप से अच्छा कर रहे हैं। वैक्सीन को लेकर काफी तेजी से काम किया जा रहा है।बेरोजगारी दर में कमीशुक्रवार को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में बेरोजगारी दर कम हुई है। यहां मई महीने में 25 लाख लोगों को रोजगार मिला है। इसके साथ ही यहां बेरोजगारी दर 14.7% से कम होकर 13.3% हो गई है। मई में सरकार ने प्रतिबंधों में ढील दी, जिसके बाद रेस्टोरेंट और दुकानों के साथ ही बिजनेस खोल दिए गए।

June 05, 2020 15:49 UTC


भिलाई में कोरोना को देवी मानकर पूजने लगी महिलाएं, कहा- मायके से मिला संक्रमण को भगाने का नुस्खा - Dainik Bhaskar

बैकुंठधाम के मैदान पर देवी को प्रसन्न करने जुटीं महिलाएंधार्मिक मामलों के जानकारों ने बताया इसे अफवाह का असरदैनिक भास्कर Jun 05, 2020, 10:33 PM ISTभिलाई. देश में अब कोरोना धर्म से जुड़ता जा रहा है। अफवाह की वजह से कुछ लोग कोरोनावायरस को देवी मान रहे हैं। पूजा कर रहे हैं। प्रार्थना कर रहे हैं कि यह रोग देश और समाज से दूर चला जाए। बिहार से उड़ी अफवाह का असर भिलाई और दुर्ग में दिख रहा है। भिलाई में बैकुंठधाम मैदान में महिलाएं देवी को प्रसन्न करने के लिए धूप में तप करती दिखीं। बिहार में कहा जा रहा है कि कोरोना माई हैं जो रूठी हुई हैं। इनकी विधिवत पूजा की जाए तो यह हमारा देश छोड़ कर चली जाएंगी। बस- इसी बात को सच मानकर महिलाएं कोरोना माई को मनाती दिखीं।इसी तरह धूप में महिलाएं काफी देर तक प्रार्थनाएं करती रहीं।अफवाह के सिवा कुछ नहींशुक्रवार को हर कोई मैदान में हो रही पूजा को देखकर रुका और प्रयोजन जानने की कोशिश की। पूजा-पाठ के दौरान महिलाएं 9 के जोड़े में पूजा सामग्री लेकर जमीन में गड्‌ढा खोदकर रूठी देवी को मनाने में लगी रहीं। वहीं, धर्म के जानकारों ने इसे एक अफवाह बताया। उन्होंने क्षेत्र के लोगों से अपील की है कि यह अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाली बात है। कोरोना का इलाज दवा से ही संभव है और बचाव के लिए लोगों को सरकार के बताए निर्देशों का पालन करना चाहिए।ऐसे फैली अफवाहसमाजसेवी सुमन शील ने बताया कि उन्होंने पूजा-पाठ करने वाले महिलाओं और उनके साथ कुछ लोगों से पूछा तो उन्होंने बिहार के पटना से परिजन द्वारा कोरोना माई की जानकारी मिलने की बात कही। दावा किया कि सोमवार और शुक्रवार को इनकी पूजा की जानी है। बिहार प्रशासन भी इस अफवाह को रोकने की कोशिशें कर रहा है, मगर अब इसका असर हजारों किलोमीटर दूर छत्तीसगढ़ में दिख रहा है।

June 05, 2020 15:48 UTC


Tags
Finance      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       Online test prep Corona       Crypto      Vpn     
  

Loading...