Delhi Assembly Election 2020: बिहार के सीएम नीतीश व LJP नेता रामविलास पासवान भी करेंगे चुनाव प्रचार

Delhi Assembly Election 2020: बिहार के सीएम नीतीश व LJP नेता रामविलास पासवान भी करेंगे चुनाव प्रचारनई दिल्ली, जेएनएन। Delhi Assembly Election 2020 : दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020 में नामांकन प्रक्रिया खत्म होने के अब भारतीय जनता पार्टी, आम आदमी पार्टी, कांग्रेस समेत दिल्ली में लड़ रही अन्य पार्टियों ने चुनाव प्रचार की रणनीति बनानी शुरू कर दी है।दिल्ली में भाजपा पहली बार जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के साथ गठबंधन करके विधानसभा चुनाव लड़ रही है। भाजपा 67 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि जदयू दो व लोजपा को एक सीट मिली है। भाजपा के बड़े नेताओं के साथ ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान व लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान सहित अन्य नेता गठबंधन के उम्मीदवारों के पक्ष में चुनाव में प्रचार करेंगे।दिल्ली प्रदेश भाजपा कार्यालय में तीनों पार्टियों की संयुक्त प्रेस वार्ता हुई। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि तीनों पार्टियों के कार्यकर्ता जनता के बीच जाकर केंद्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देने के साथ ही लोगों को आप सरकार की विफलताओं के बारे में भी बताएंगे।जदयू के राष्ट्रीय महामंत्री और बिहार सरकार में मंत्री संजय झा ने कहा कि गठबंधन से पूर्वांचल के लोगों में उत्साह है। नीतीश कुमार सहित पार्टी के अन्य बड़े नेता दिल्ली में प्रचार करेंगे।दिल्ली चुनाव से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिकPosted By: JP Yadavडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

January 22, 2020 03:22 UTC


NavIC in Xiaomi and Realme Phones: Xioami और रियलमी ने किया कन्फर्म, ISRO के नैविगेशन सिस्टम के साथ आएंगे नए स्मार्टफोन - xiaomi and realme confirms to launch new smartphones with navic developed by i

(प्रतीकात्मक फोटो)NavIC सपॉर्ट के साथ आएगा स्नैपड्रैगन प्रोसेसरXiaomi और रियलमी के स्मार्टफोन अब देसी जीपीएस टेक्नॉलजी के साथ आएंगे। इन कंपनियों ने कन्फर्म कर दिया है कि वे अब इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) द्वारा डिवेलप किए गए नैविगेशन विद इंडियन कॉन्स्टलेशन (NavIC) को सपॉर्ट करने वाले स्मार्टफोन्स लॉन्च करेंगी। NavIC नैविगेशन के लिए इस्तेमाल की जाने वाली GPS टेक्नॉलजी का देसी वर्जन है। बता दें कि, हाल ही में प्रोसेसर बनाने वाली कंपनी क्वालकॉम ने स्नैपड्रैगन 4,6,7 सीरीज के तीन नए चिपसेट्स को लॉन्च किया था। ये तीनों (स्नैपड्रैगन 720G, 662 और 460) चिपसेट NavIC को सपॉर्ट करते हैं और इन प्रोसेसर के साथ आने वाले स्मार्टफोन्स में NavIC का यूज किया जा सकता है।शाओमी के ग्लोबल प्रेजिडेंट और इंडिया मैनेजिंग डायरेक्टर मनु जैन ने कहा कि कंपनी जल्द ही टॉप-एंड स्नैपड्रैगन 720G प्रोसेसर पर काम करने वाले स्मार्टफोन्स को लॉन्च करेगी। यह स्मार्टफोन कौन सा होगा इस बारे में मनु जैन ने कोई जानकारी नहीं दी, लेकिन इस बात की तरफ इशारा जरूर किया कि स्नैपड्रैगन 720G प्रोसेसर पर काम करने वाला अगला स्मार्टफोन NavIC सपॉर्ट के साथ आएगा। वहीं, रियलमी के सीईओ माधव सेठ ने कहा कि रियलमी दुनिया की पहली कंपनी होगी जो स्नैपड्रैगन 665 प्रोसेसर वाले स्मार्टफोन्स को भारत में रियलमी 5 सीरीज के साथ लॉन्च करेगी।स्मार्टफोन यूजर्स के बीच जीपीएस काफी पॉप्युलर है, लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि यह इकलौता नैविगेशन सिस्टम नहीं है। रूस अपना खुद का नैविगेशन सिस्टम GLONASS यूज करता है। वहीं, दूसरी तरफ यूरोपियन यूनियन में गैलीलियो और चीन में BeiDou नैविगेशन सैटलाइट सिस्टम का इस्तेमाल होता है।NavIC की बात करें तो यह केवल भारत पर फोकस करेगा। बताया जा रहा है कि यह जीपीएस से भी ज्यादा ऐक्युरेट होगा जिसकी पोजिशन ऐक्युरेसी 5 मीटर की होगी। NavIC ड्यूल फ्रिक्वेंसी (S और L बैंड) पर काम करता है। वहीं, जीपीएस केवल L बैंड पर काम करता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2016 में इसरो द्वारा बनाए गए NavIC सैटलाइट नैविगेशन सिस्टम को लॉन्च किया था और अब यह स्मार्टफोन्स में आने के लिए तैयार है। इसरो ने ऐक्युरेट नैविगेशन देने के लिए कुल 8 सैटलाइट्स को डिप्लॉय किया है। इनमें से सात पोजिशनिंग, लोकेशन, नैविगेशन और टाइमिंग सर्विस देंगे। जबकि एक में मेसेजिंग सर्विस (IRNSS-1A) उपलब्ध कराएगा।करगिल युद्ध के दौरान अमेरिका ने भारत में घुसने वाली पाकिस्तानी सेना के बारे में जीपीएस इन्फर्मेशन देने से इनकार कर दिया था। यही वह समय था जब जब देश को पहली बार अपने सैटलाइट नैविगेशन सिस्टम की कमी खली थी और दो दशक बाद इसरो ने कड़ी मेहनत से देश को आखिरकार अपना खुद का नैविगेशन सिस्टम उपलब्ध कराने में सफलता हासिल की।

January 22, 2020 03:22 UTC


CISF में निकली भर्ती, 2,000 नए पदों को गृह मंत्रालय ने दी मंजूरी

नई दिल्ली, प्रेट्र। गृह मंत्रालय ने सीआइएसएफ में 2,000 नए पदों के सृजन को मंजूरी दी है। इसका उद्देश्य हवाईअड्डों, परमाणु संयंत्रों, मेट्रो नेटवर्क समेत अन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को और प्रभावी करना है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि हाल ही में सरकार ने सीआइएसएफ में 2,000 नए पदों के सृजन की अनुमति दी है। इसमें जवान से लेकर निरीक्षक स्तर के पद शामिल हैं। इन पदों के साथ अगले दो वर्षो के भीतर सीआइएसएफ में दो और बटालियन शामिल हो जाएंगी। प्रत्येक बटालियन में एक-एक हजार जवान शामिल होंगे। फिलहाल सीआइएसएफ में जवानों की क्षमता 1.8 लाख है।केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) देश के 60 नागरिक हवाईअड्डों, परमाणु संयंत्रों, बिजली स्टेशनों, महत्वपूर्ण सरकारी भवनों, दिल्ली मेट्रो के अलावा अन्य प्रमुख प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करता है। सीआइएसएफ का विशेष सुरक्षा समूह (एसएसजी) वीवीआइपी को सुरक्षा भी प्रदान करता है।सरकार इस महीने के अंत तक श्रीनगर और जम्मू हवाईअड्डों की सुरक्षा का जिम्मा भी सीआइएसएफ को सौंपने का मन बना चुकी है। इन दोनों हवाईअड्डों की सुरक्षा का जिम्मा फिलहाल जम्मू-कश्मीर पुलिस के पास है। सरकार ने साफ कर दिया है कि वह सीआइएसएफ को देश के और अधिक हवाईअड्डों के साथ-साथ वीवीआइपी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी सौंपने जा रही है। सीआइएसएफ की क्षमतावृद्धि इसी क्रम में की गई है।उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 के मुंबई आतंकी हमले के बाद निजी क्षेत्र की संपत्तियों की रखवाली की जिम्मेदारी भी सीआइएसएफ को सौंपी गई है। इसके बाद इस फोर्स की भूमिका और बढ़ गई है। सीआइएसएफ अभी करीब एक दर्जन निजी क्षेत्र के प्रतिष्ठानों की सुरक्षा कर रही है।Posted By: Nitin Aroraडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

January 22, 2020 03:22 UTC


चलता-फिरता हीटर है 'कांगड़ी', पहाड़ों से निकलकर विदेशों तक जमा रही धाक

चलता-फिरता हीटर है 'कांगड़ी', पहाड़ों से निकलकर विदेशों तक जमा रही धाकनई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। सर्दी हो और कश्मीर की पारंपरिक कांगड़ी का जिक्र न हो, ऐसा कैसे हो सकता है। भले ही बाहर बर्फ गिर रही हो और तापमान शून्य से नीचे माइनस में चला जाए, कांगड़ी का एहसास ही आपको गर्माहट ला देगा। आधुनिक इलेक्ट्रानिक उपकरणों के इस दौर में भी कांगड़ी का क्रेज कम नहीं हुआ है। खुद को गर्म रखने से लेकर ड्राइंग रूम में सजाने तक कांगड़ी का इस्तेमाल हो रहा है। कश्मीर की हस्तशिल्प की पहचान कांगड़ी अब पहाड़ों से निकलकर जम्मू, हिमाचल प्रदेश, मैदानी इलाकों और विदेशों में भी धाक जमा रही है।बांडीपोरा की कांगड़ी की बात ही कुछ ओरवैसे तो पूरे कश्मीर में कई जगह कांगड़ी बनाई और बेची जाती है, लेकिन बांडीपोरा और चार-ए-शरीफ की कांगड़ी की बात ही कुछ ओर है। कश्मीर के लोगों के अलावा देश-विदेश से कश्मीर घूमने आने वाले पर्यटकों को कांगड़ी खूब लुभा रही है।जीवनरक्षक है पर कुछ नुकसान भीकश्मीर के पहाड़ी क्षेत्रों में भारी बर्फबारी के समय कई-कई दिन तक बिजली नहीं होती, तब खुद को गर्म रखने के लिए कांगड़ी ही सहारा है। भीषण सर्दी में यह जीवनरक्षक से कम नहीं। हालांकि चिकित्सकों का कहना है कि बंद कमरे में ज्यादा कांगड़ी सेंकना हानिकारक भी हो सकता है। इससे सांस की दिक्कत और चर्मरोग भी हो सकता है।पोशक्विन कांगर से बनी जाती हैएक कांगड़ी तैयार करने में काफी मेहनत लगती है। पहले कुम्हार मिट्टी से कटोरानुमा बर्तन बनाता है। इसके बाद पोशक्विन कांगर और लिनक्विन कांगर नामक पौधे की टहनी (बांस नुमा तिनके) से हाथ से कांगड़ी बुनी जाती है। इसके बाद मिट्टी का बर्तन कांगड़ी में इस तरह फिट किया जाता है कि वह हिले नहीं। इसके बाद कांगड़ी को ऊपर से मोतियों से सजाया जाता है। वजन में भी यह काफी हल्की होती है।200 से 2000 रुपये तक है कीमतकांगड़ी की कीमत उसकी गुणवत्ता पर निर्भर करती है। अच्छी लकड़ी (पोशक्विन कांगर) की टहनियों से बनी कांगड़ी दो हजार तक मिलती है। वैसे बाजार में 200-400 रुपये की कांगड़ी भी उपलब्ध है।कांगडी सेंकना महारत से कम नहींकांगड़ी में कोयले को जलाकर डाला जाता है। धुंए वाले कोयले को छांट कर बाहर निकाल दिया जाता है। इसे कश्मीर के लोग फिरन (कश्मीरी परिधान) के अंदर हाथ में पकड़कर चलते-फिरते भी सेंकते हैं। इससे हाथ और छाती गर्म रहती है। खुद को जलने से बचाते हुए कांगड़ी सेंकना भी महारत का काम है। गर्म कांगड़ी तीन से चार घंटे आराम से चलती है।मां शादी में बेटी को और नई बहू सास को देती है यह उपहारकांगड़ी कश्मीर की परंपरा से भी जुड़ी है। शादी के समय मां अपनी बेटी को विदा करते समय कांगड़ी देती है। नई बहू अपनी सास को भी कांगड़ी तोहफे में देती है, जिसे बड़े चाव से घर में सजाकर रखा जाता है। इतना ही नहीं, घर में आने वाले मेहमान का स्वागत गर्म कांगड़ी देकर किया जाता है। कश्मीर में सीजन की पहली बर्फबारी को ‘शीन मुबारक’ कहा जाता है। शीन मुबारक बोलकर भी कांगड़ी तोहफे में दी जाती है। कश्मीर में कांगड़ी पर कई लोकगीत भी प्रचलित हैं।यह भी पढ़ें:-इम्‍यूनिटी बढ़ाने और डायबिटीज घटाने के लिए लें 'टहलने का टॉनिक', कम से कम चलें इतने कदमकंप्यूटर के सामने ज्यादा देर बैठकर काम करना हो सकता है घातक, ये होते हैं लक्षणलिवर, गैस और गुर्दे की मजबूती के लिए कारगर है 'कागासन', पढ़े एक्सपर्ट की रायPosted By: Sanjay Pokhriyalडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

January 22, 2020 03:22 UTC


CBI ने अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन और उसके साथियों के खिलाफ 4 नए मामले दर्ज किए

CBI ने अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन और उसके साथियों के खिलाफ 4 नए मामले दर्ज किएनई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन और उसके साथियों के खिलाफ 4 नए मामले दर्ज किए हैं। राजन और उसके साथियों पर हत्या, हत्या का प्रयास, जबरन वसूली और आपराधिक साजिश के तहत दर्ज किए गए हैं। इन चारो केस को महाराष्ट्र पुलिस देख रही थी, उन्हें सीबीआइ के ट्रांसफर किया गया है। ये सभी मामले 1995 से 1998 के बीच के हैं। ये मामले 1995, 1996, 1997 और 1998 में अलग-अलग पुलिस स्टेशनों में दर्ज किए गए थे।छोटा राजन 25 अक्टूबर 2015 को इंडोनेशिया में गिरफ्तार हुआ था। राजन फिलहाल में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है। पिछले दिनों यह खबर सामने आई थी कि डी-कंपनी के सदस्य और दाउद के सहयोगी छोटा शकील ने अपने प्रतिद्वंद्वी छोटा राजन की हत्या की नई साजिश रच रहा है। इसके बाद राजन की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। धमकी के बाद राजन के तीन कुक बदल दिए गए। डी-कंपनी से खतरे के कारण अंडरवर्ल्ड डॉन को वार्ड परिसर के बाहर जाने की मनाही है।सितंबर-अक्टूबर 2019 में भी दर्ज हुआ था केससीबीआइ ने अक्टूबर 2019 में राजन के खिलाफ पांच नए मामले अपने हाथों में लिए थे। सितंबर 2019 में, सीबीआइ ने राजन, भारत नेपाली और उसके करीबी सहयोगियों के खिलाफ हत्या, जबरन वसूली, अपहरण और दूसरों के बीच अवैध हथियार रखने के आरोपों के तहत 12 नए मामले दर्ज किए थे। ये मामले उन 71 मामलों का हिस्सा हैं, जिन्हें मुंबई पुलिस से सीबीआइ में स्थानांतरित किया गया था।बीआर शेट्टी की हत्या के प्रयास में छोटा राजन को आठ साल कैद की सजाअगस्त 2019 में, मुंबई की एक अदालत ने 2012 में होटल व्यवसायी बीआर शेट्टी की हत्या के प्रयास के लिए गैंगस्टर छोटा राजन और पांच अन्य को आठ साल कैद की सजा सुनाई थी। अदालत ने छह लोगों पर 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था, जिन्हें मामले में दोषी ठहराया गया थे। इनके खिलाफ महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका), भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की धारा 307 (हत्या के प्रयास), 120बी (आपराधिक साजिश) और शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों के तहत केस दर्ज किए गए।छोटा राजन की गिरफ्तारीगैंगस्टर को बाली, इंडोनेशिया में गिरफ्तार करने के बाद नवंबर 2015 में भारत में प्रत्यर्पित किया गया था। इस दौरान भारतीय अधिकारियों ने छोटा राजन को वापस लाने के लिए इंटरपोल से संपर्क किया था। कथित तौर पर, राजन को ऑस्ट्रेलियाई पुलिस की एक सूचना के बाद गिरफ्तार किया गया था। अंडरवर्ल्ड डॉन ने मोहन कुमार के नाम से भारतीय पासपोर्ट पर बाली की यात्रा की थी।Posted By: Taniskडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

January 22, 2020 03:11 UTC


CM अमरिंदर ने CAA को लेकर अकाली दल को दी NDA छोड़ने की चुनौती, तो SAD ने ऐसे किया पलटवार

खास बातें SAD को केंद्र में राजग गठबंधन छोड़ने की चुनौती दी 'हास्यस्पद' बयान जारी न करे मुख्यमंत्री: शिअद प्रमुख CAA के विरोध पर दिल्ली चुनाव नहीं लड़ेगी शिअदपंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को शिरोमणि अकाली दल (SAD) को केंद्र में राजग गठबंधन छोड़ने की चुनौती दी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के बयान से गांधी परिवार के प्रति उनकी ‘चापलूसी' और ‘परिवार को खुश रखकर अपनी कुर्सी बचाने' की इच्छा ही जाहिर होती है. वहीं पंजाब में कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़ ने कहा कि दिल्ली में SAD और भाजपा के बीच गठबंधन न होना भाजपा की SAD के मौजूदा नेतृत्व से दूरी बनाने की ‘सोची-समझी रणनीति' का हिस्सा है. उन्होंने कहा कि SAD को ‘विफल' मुख्यमंत्री से किसी सीख की जरूरत नहीं है. SAD की राय है कि मुसलमानों को SAD के दायरे से बाहर नहीं रखा जाना चाहिए.

Source:NDTV

January 22, 2020 03:00 UTC


मोदी सरकार ने कहा 'टुकड़े-टुकड़े गैंग' की कोई जानकारी नहीं तो शशि थरूर बोले- वे सरकार चला रहे और देश को बांट रहे

खास बातें कांग्रेस नेता शशि थरूर का मोदी सरकार पर हमला ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ पर आया था आरटीआई आवेदन का जवाब शशि थरूर बोले- वे सरकार चला रहे और देश को बांट रहेगृह मंत्रालय द्वारा एक आरटीआई आवेदन के जवाब में ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग' की कोई जानकारी उपलब्ध नहीं होने की बात पर हमला करते हुए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग' का अस्तित्व है और वह सरकार चला रहा है. एक आरटीआई कार्यकर्ता ने दावा किया था कि उनकी एक आरटीआई में गृह मंत्रालय से यह जवाब आया है कि टुकड़े-टुकड़े गैंग के संबंध में कोई भी जानकारी उपलब्ध नहीं है. मीडिया में आई खबर को टैग करते हुए थरूर ने ट्वीट किया, ‘‘टुकड़े-टुकड़े गैंग का अस्तित्व है. देश जानता है कि कौन भारत को बांट रहा है.'' उस दौरान JNU छात्र संघ के प्रमुख कन्हैया कुमार के खिलाफ एक राजद्रोह का मुकदमा दायर किया गया था, जिसने इस कार्यक्रम का आयोजन किया था.

Source:NDTV

January 22, 2020 03:00 UTC


Bigg Boss 13 में सिद्धार्थ ने किया आरती को नॉमिनेशन से सेव तो टूटा शहनाज का दिल, फिर घर में यूं मचा बवाल

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) की वजह से टूटा शहनाज गिल (Shehnaaz Gill) का दिलखास बातें सिद्धार्थ शुक्ला ने आरती सिंह को किया नॉमिनेशन से सेव शहनाज गिल का 'बिग बॉस 13' में टूटा दिल 'बिग बॉस 13' का वीडियो हुआ वायरलटीवी के सबसे धमाकेदार शो 'बिग बॉस' (Bigg Boss 13) में इन दिनों अलग ही कहानी देखने को मिल रही है. इतना ही नहीं, सिद्धार्थ शुक्ला का व्यवहार भी शहनाज गिल के लिए लगातार बदलता जा रहा है, जिससे पंजाब की कैटरीना कैफ काफी दुखी दिखाई दीं. हाल ही में बिग बॉस का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, जिसमें सिद्धार्थ शुक्ला, आरती सिंह को नॉमिनेशन से बचा लेते हैं, जिसपर शहनाज गिल का दिल टूट जाता है. आरती ने शहनाज ने कहा कि वह ऐसा व्यवहार कर रही हैं, जैसे आरती उन दोनों के बीच आई हों. इससे इतर बिग बॉस का एक और वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें शहनाज गिल फूट-फूटकर रोतीं नजर आ रही हैं.

Source:NDTV

January 22, 2020 03:00 UTC


जम्‍मू-कश्‍मीर में भारी बर्फबारी, उत्‍तराखंड में जमी पाइप लाइनें, घने कोहरे की जद में दिल्‍ली-एनसीआर

नई दिल्‍ली, ब्‍यूरो/एजेंसी। Weather Report नए पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय हो जाने के कारण मौसम ने एकबार फ‍िर अपने तेवर तल्‍ख कर लिए हैं। जम्‍मू-कश्‍मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्‍तराखंड के कई इलाकों में भारी बर्फबारी दर्ज की गई है। जम्‍मू कश्‍मीर में मां वैष्णो देवी दरबार, भैरव घाटी और त्रिकुटा पर्वत बर्फ की चादर में लिपटा नजर आ रहे हैं तो उत्‍तराखंड के कई इलाकों में पाइप लाइनें जम चुकी हैं जिससे लोगों की परेशानियां बढ़ गई हैं। दिल्‍ली-एनसीआर के इलाकों में घने कोहरे ने रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के दौरान लद्दाख, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में हिमपात की आशंका जताई है।जम्मू कश्मीर में मंगलवार को उच्च पर्वतीय इलाकों में भारी बर्फबारी दर्ज की गई जिससे त्रिकुटा के पहाड़ चमक उठे। भैरव घाटी से लेकर अ‌र्द्धकुंवारी तक बर्फ गिरी है। सूबे में सीजन की यह चौथी बर्फबारी है। श्री माता वैष्णो देवी में बैटरी कार सेवा, हेलीकॉप्टर सेवा और भवन से भैरव घाटी के बीच चलने वाली पैसेंजर केबल कार मंगलवार को बंद कर दी गई। देर रात बर्फबारी और बारिश जारी रही। मंगलवार को भैरों घाटी में दो से ढाई फुट, वैष्णो देवी भवन में दो फुट तो सांझी छत में डेढ़ फुट बर्फ दर्ज की गई जबकि आज श्रद्धालुओं के यात्रा मार्ग खुले हैं।Himachal Pradesh Weather News हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी के कारण शिमला का ऊपरी क्षेत्र से संपर्क कट गया है। रात तक हिमपात जारी रहने के कारण नड्डी में पांच इंच, भागसूनाग में दो इंच, धर्मकोट में छह इंच जबकि गलू मंदिर में करीब एक फीट बर्फबारी दर्ज की गई है। शिमला को जाने वाला नेशनल हाईवे कुफरी के पास बंद है जबकि छराबड़ा के पास ट्रक के फ‍िसलने से दर्जनों गाड़ियां फंस गई हैं। वहीं Uttarakhand के उच्च हिमालय सहित खलिया से कालामुनि, बिटलीधार तक हिमपात जारी है।#WATCH Delhi: A dense layer of fog covers the national capital this morning. Visuals from Sarita Vihar. pic.twitter.com/njvMgHhRXF — ANI (@ANI) January 22, 2020दिल्‍ली-एनसीआर बेहद घने कोहरे की चपेट में है और तापमान गिरकर सात डिग्री तक पहुंच गया है। दिल्ली हवाई अड्डे पर कम दृश्‍यता के चलते पांच विमानों के मार्ग बदले गए जबकि दिल्‍ली से आने जाने वाली 22 ट्रेनें अपने तय समय से काफी देर से चल रही हैं। स्‍थानीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि हवा में आर्द्रता का स्तर 100 फीसद जबकि दृश्यता 50 मीटर रही। दिल्ली में बुधवार को सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता 25 से 50 मीटर दर्ज की गई।समाचार एजेंसी एएनआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब, उत्‍तर राजस्‍थान और दिल्‍ली, पूर्वी यूपी और बिहार में घना कोहरा दर्ज किया गया है। यही नहीं पटियाला, बीकानेर, चुरू, हिसार, बहराइच, गोरखपुर और पटना में भी कोहरे ने रफ्तार पर ब्रेक लगाने का काम किया। मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी एजेंसी स्‍काइमेट वेदर के मुताबिक, अगले 24 घंटों में नगालैंड, असम, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश की संभावना है।Posted By: Krishna Bihari Singhडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

January 22, 2020 02:49 UTC


Tags
Finance      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       VMware
  

Loading...