indian bowler shiv singh: australian umpiring great simon taufel disagreed to indian bowler shiv singh bizarre delivery - शिव सिंह की 360° गेंद पर बवाल, दिग्गज अंपायर साइमन टॉफेल ने बताया गलत - News Summed Up

indian bowler shiv singh: australian umpiring great simon taufel disagreed to indian bowler shiv singh bizarre delivery - शिव सिंह की 360° गेंद पर बवाल, दिग्गज अंपायर साइमन टॉफेल ने बताया गलत


Weirdo...!! Have a close look..!! https://t.co/jK6ChzyH2T — Bishan Bedi (@BishanBedi) 1541619588000शिव सिंहभारत और वेस्ट इंडीज के बीच तीसरा और अंतिम टी-20 मुकाबला चेन्नै के एमए चिदंबरम स्टेडियम में 11 नवंबर यानी रविवार को खेला जाएगा। इस मैच में कप्तान रोहित शर्मा के निशाने पर कई बड़े रेकॉर्ड होंगे। 'हिटमैन' टी-20 इंटरनैशनल में 100 छक्के से महज 4 कदम दूर हैं, जबकि 200 चौके से सिर्फ 1 चौका दूर हैं।अगर वह चेन्नै में 4 छक्के और 1 चौका लगा देते हैं तो टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 छक्के और 200 चौके लगाने वाले दुनिया के दूसरे, जबकि भारत के पहले बल्लेबाज होंगे। न्यू जीलैंड के मार्टिन गप्टिल ने 75 मैचों में 200 चौके और 103 छक्के लगाए हैं।यही नहीं, टी-20 इंटरनैशनल में सबसे अधिक छक्के का वर्ल्ड रेकॉर्ड भी उनके निशाने पर है। गप्टिल और वेस्ट इंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल के नाम फिलहाल 103-103 छक्के दर्ज हैं। वर्ल्ड रेकॉर्ड संयुक्त रूप से दोनों के नाम है। अगर रोहित 8 छक्के लगा देते हैं तो वर्ल्ड रेकॉर्ड तोड़ देंगे।रोहित जिस तरह चौके और छक्के बरसा रहे हैं, उससे इस वर्ल्ड रेकॉर्ड के चेन्नै में टूटने की पूरा संभावना है। बता दें कि रोहित ने मौजूदा टी-20 सीरीज में सबसे अधिक 9 चौके और 7 छक्के लगाए हैं। इससे पहले इस ओपनर ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज में कुल 43 चौके और 16 छक्के बरसाए थे और कई रेकॉर्ड अपने नाम किए थे।इसके अलावा एक और स्पेशल रेकॉर्ड रोहित के निशाने पर होगा। रोहित शर्मा के नाम अब तक 86 टी-20 में 2203 रन हैं और वह टी-20 इंटरनैशनल में सबसे अधिक रन बनाने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं। अगर वह 69 और बना देते हैं तो न्यू जीलैंड के मार्टिन गप्टिल का वर्ल्ड रेकॉर्ड तोड़ देंगे। गप्टिल के नाम 75 इंटरनैशनल टी-20 में 2271 रन दर्ज हैं।टीम इंडिया के युवा ओपनिंग बल्लेबाज पृथ्वी पंकज साव आज अपना 19वां जन्मदिन मना रहे हैं। पिछले महीने ही वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट से इस बल्लेबाज ने अपने इंटरनैशनल करियर की शुरुआत की। साल 2018 में इस खिलाड़ी को जहां-जहां मौका मिला, उसने वहां-वहां अपना जलवा बिखेरा। आगे की स्लाइड्स में देखें पृथ्वी साव के इस साल किए कारनामों पर एक नजर...इस साल न्यू जीलैंड में आयोजित हुए अंडर-19 वर्ल्ड कप में वह भारतीय टीम के कैप्टन रहे और उन्होंने खिताब देश को दिलाया। फाइनल में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया अंडर-19 टीम को 8 विकेट से हराकर खिताब जीत लिया।आईपीएल 2018 में दिल्ली डेयरडेविल्स ने उन्हें 1.2 करोड़ में खरीदा। वह आईपीएल में फिफ्टी जड़ने वाले संयुक्त रूप से सबसे युवा खिलाड़ी बने।सिर्फ 18 साल के इस युवा ओपनर ने टेस्ट डेब्यू पर शतक जड़ा। भारत की ओर ऐसा करने वाले साव सबसे युवा क्रिकेटर हैं। राजकोट के मैदान पर उन्होंने विंडीज के खिलाफ 134 रन की पारी खेली। 154 गेंदों की इस पारी में साव ने 19 चौके जड़े।क्रिकेट इतिहास में पृथ्वी साव दुनिया के ऐसे तीसरे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने प्रथम श्रेणी और टेस्ट के डेब्यू मैचों में शतक जड़ा हो। सबसे पहले यह उपलब्धि भारत के ही गुंडप्पा विश्वनाथ ने 1969 में अपने नाम दर्ज की थी।इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के डिर्क वेल्हम ने 1980-81 में यह कारनामा अपने नाम किया और अब पृथ्वी साव ऐसा करने वाले तीसरे क्रिकेटर बन गए हैं।पृथ्वी साव से पहले भारत के लिए यह उपलब्धि महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर के नाम थी। 'गॉड ऑफ क्रिकेट' के नाम से मशहूर सचिन ने 17 साल 112 दिन की उम्र में शतक जड़ा था, पृथ्वी ने 18 साल 329 दिन की उम्र में सेंचुरी लगाई।शिवा भले ही अपने 360° गेंद को जायज बता रहे हों, लेकिन पूर्व दिग्गज अंपायर साइमन टॉफेल ने इसे नियम विरुद्ध करार दिया। उन्होंने इस गेंद को जानबूझकर बल्लेबाजों का ध्यानभंग करने वाली हरकत करार दिया है। उन्होंने कहा, 'बल्लेबाजों और गेंदबाजों के रिवर्स ऐक्शन की मंशा में काफी फर्क है। बल्लेबाजों के लिए जहां शॉट लगाना जरूरी होता है वहीं गेंदबाजों के लिए उसी तरह की गेंदबाजी बरकरार रखना जरूरी नहीं होता।'नियमों के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया, 'अंपायर के पास नियम 20.4.2.1 (अनुचित खेल) और 20.4.2.7 (जानबूझकर ध्यान भंग करना) के तहत इस तरह की गेंद को डेड घोषित करने का अधिकार होता है। उनके पास गेंदबाजों से यह पूछने का भी अधिकार होता है कि ऐसा उन्होंने क्यों किया। क्या उनका मकसद बल्लेबाज का ध्यान भंग करना तो नहीं था। मेरे हिसाब से यह सही नहीं है।'बता दें कि यह 'करिश्माई' गेंद उत्तर प्रदेश के शिव सिंह ने फेंकी थी। तब यूपी बंगाल के खिलाफ मैच खेल रही थी। अंपायर के गेंद को डेड बॉल घोषित किए जाने से सिंह हैरान थे। विडियो में उनकी टीम इस बारे में अंपायर से बात करती दिख रही है। इस विडियो ने फैंस के साथ-साथ क्रिकेट के दिग्गजों को भी हैरान किया। पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर माइकल वॉन, भारतीय टीम के पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने इस विडियो को शेयर किया है।अपनी सफाई में शिव सिंह कहा कहना है कि उन्होंने ऐसी गेंद पहली बार नहीं फेंकी थी। शिव सिंह के मुताबिक, उन्होंने विजय हजारे में भी ऐसी ही गेंद फेंकी थी। शिव सिंह मानते हैं कि जब बल्लेबाज रिवर्स स्वीप लगा सकते हैं तो गेंदबाजों को भी कुछ नया करने का मौका मिलना चाहिए।सोशल मीडिया पर यह चर्चा चल रही है कि अगर बल्लेबाज को स्विच हिट शॉट लगाने की अनुमति है तो एक गेंदबाज गेंद फेंकने के दौरान 30 डिग्री का रोटेशन क्यों नहीं कर सकता।


Source: Navbharat Times November 09, 2018 02:36 UTC



Loading...

Loading...