घर के बाहर खेल रही 2 मासूमों को उठा ले गए दरिंदे, दुष्कर्म कर फेंक गए सड़क किनारे; कोमा में गई एक बच्ची की इलाज के दौरान मौत

आईटी सिटी हिंजवडी में दो मासूमों से दुष्‍कर्म का मामला सामने आया है। इसमें एक बच्‍ची की हालत गंभीर हो गई और वह कोमा में चली गई थी। बुधवार को उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। मामले में देर रात दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।चॉकलेट का लालच देकर किया गलत कामजानकारी के अनुसार, रविवार को हिंजवडी में दोनों बच्‍चियां घर के बाहर खेल रही थीं। तबी दो युवक आए और चॉकलेट दिलाने का लालच देकर साथ ले गए। इसके बाद दुष्कर्म कर उन्हें सड़क किनारे छोड़कर भाग निकले।दूसरी की हालत भी गंभीरसूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों मासूमों को फौरन अस्‍पताल में भर्ती कराया। जहां कोमा में गई एक बच्ची की तीन दिन बाद मौत हो गई। वहीं, दूसरी बच्‍ची की हालत भी गंभीर बनी हुई है।एक आरोपी है नाबालिगडीसीपी नम्रता पाटिल ने बताया, दोनों आरोपी एक चीनी मिल में काम करते हैं। इनमें एक नाबालिग है। उसे हिरासत में ले लिया गया है। घटना के बारे में पता चला तो हमने तुरंत दूसरी पीड़िता और उसके परिवारवालों से संपर्क किया गया।

September 20, 2018 11:15 UTC


37 साल बड़े भजन सिंगर से अफेयर पर दुखी जसलीन के पिता ने कहा - मैंने ही उसे अनूप से मिलवाया था, लेकिन मुझे नहीं पता था दोनों के बीच कुछ पक रहा है

एंटरटेनमेंट डेस्क. 'बिग बॉस 12' की कंटेस्टेंट जसलीन मथारू और सिंगर अनूप जलोटा के रिलेशनशिप को लेकर एक बार फिर जसलीन के पिता केसर मथारू का बयान सामने आया है। उन्होंने एक न्यूज चैनल ने बात करते हुए आखिरकार कह दिया- 'मैं दोनों के रिश्ते को कभी भी स्वीकार नहीं करूंगा। यदि वो मुझसे अपने रिलेशनशिप को लेकर पूछेगी तो भी मैं अपनी सहमति नहीं दू्ंगा। इतना ही नहीं मैं उन्हें अपना आशीर्वाद भी नहीं दूंगा। यदि ऐसा कुछ होता है तो मैं उनसे दूरी बना लूंगा। केसर ने कहा 37 साल सिंगर के साथ रिलेशन को लेकर मैं बेटी से सवाल करूंगा...- केसर ने इंटरव्यू के दौरान कहा- 'मैं बेटी से इस रिलेशनशिप पर सवाल करूंगा। यदि वो रिलेशनशिप को लेकर हामी भरती है तो मैं उससे दूरी बना लूंगा'।- केसर ने कहा- 'मैंने ही बेटी को अनूप जलोटा से मिलवाया था ताकि वो अपने गायन को और बेहतर बना सके। इसके बाद अनूप लगातार हमारे घर आते-जाते रहे, लेकिन मुझे नहीं पता था कि दोनों के बीच कुछ पक रहा है'।- 'मुझे ये सुनकर आश्चर्य हुआ कि दोनों पिछले 3 साल से रिलेशनशिप में है'।शॉक्ड रह गई थी फैमिलीजसलीन और अनूप जलोटा ने 'बिग बॉस 12' के प्रीमियर के दौरान जब अपनी रिलेशनशिप के बारे में बताया था तो उनके पापा और पूरी फैमिली शॉक्ड रह गई थी। एक इंटरव्यू में केसर मथारू ने कहा था - मुझे यकीन नहीं हो रहा कि बेटी अपने से 37 साल बड़े सिंगर को डेट कर रही है'।

September 20, 2018 11:03 UTC


'बिग बॉस-12' में कंटेस्टेंट्स ने उड़ाया दीपक का मजाक, बिहारी टोन में अंग्रेजी सुन हंसी के मारे कंटेस्टेंट हो गए लोटपोट

'बिग बॉस' सीजन 12 में बतौर कॉमनर शामिल हुए दीपक ठाकुर शो में बाकी कंटेस्टेंट्स को काफी एंटरटेन कर रहे हैं। इसी बीच दीपक का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वे 'बिग बॉस' के घर में कंटेस्टेंट्स के सामने इंग्लिश में बात करते हैं। ऐसे में दीपक की इंग्लिश सुन हंसी के मारे सभी कंटेस्टेंट लोटपोट हो जाते हैं। इस वीडियो में घरवालों के साथ बैठकर खुद सेंटर ऑफ अट्रैक्शन बने दीपक ने बाद में अंग्रेजी में एक गाना भी बनाया। जिसे सुन सभी घरवालें ठहाके लगाकर खूब जोर जोर से हंसे। बता दें, दीपक बिहार के मुजफ्फरपुर से हैं और उनके पिता एक किसान हैं। देखें वीडियो...

September 20, 2018 10:51 UTC


फूट-फूटकर रोईं नेहा कक्कड़, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे इमोशनल... देखें Video

सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन का 'Indian Idol 10' आने वाले वीकेंड में मां होने का जश्न मनाने के लिए दर्शकों के लिए मां स्पेशल ला रहा है. Advertisementइस तरह के भावनात्मक गाने को गाने के बाद अंकुश ने अपनी मां को मंगल सूत्र का तोहफा दिया क्योंकि उन्हें अंकुश की बीमारी के लिए दवाएं खरीदने के लिए अपना मंगल सूत्र गिरवी रखना पड़ा था. एक भावनात्मक अंकुश ने अपने बचपन के दिनों को भी साझा किया जब उसके माता-पिता सड़क पार करने के लिए उन्हें अपने कंधों पर उठाते थे. हमारी मां हमारी जिंदगी में सबसे खास है और यह अंकुश ने अपने गाने से बहुत ही खूबसूरती से बताया. मैं अंकुश की अच्छी सेहत के लिए मातारानी से प्रार्थना करूंगी."

Source:NDTV

September 20, 2018 10:30 UTC


गोवा में गहराता राजनैतिक संकट...

गोवा में राजनैतिक संकट गहराता जा रहा है... संकट इस बार संवैधानिक बन सकता है, जैसा कि कांग्रेस कह रही है... गोवा के हालात एकदम अलग हैं... वहां BJP की सरकार है, जिसके पास 14 विधायक हैं और वह 40 सदस्यों की विधानसभा में सबसे बड़ा दल नहीं है... सबसे बड़ा दल कांग्रेस है, जिसके पास 16 विधायक हैं... मगर गोवा में सरकार BJP की है, जिसे महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी, यानी MGP के 3, गोवा फॉरवर्ड पार्टी, यानी GFP के 3 और 3 निर्दलीय विधायकों का सर्मथन मिला हुआ है... इन सभी पार्टियों ने साफ कह रखा है कि उन्होंने BJP को नहीं, बल्कि मनोहर पर्रिकर को समर्थन दिया है...यही वजह है कि मनोहर पर्रिकर को केंद्रीय रक्षामंत्री के पद से हटाकर गोवा भेजा गया था, लेकिन अब हालात ये हैं कि मनोहर पर्रिकर खुद बीमार हैं और दिल्ली के AIIMS में भर्ती हैं... उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूज़ा भी इलाज के लिए अमेरिका में हैं और पांडुरंग मडगईकर की हालत भी खराब है, और वह भी वोट डालने की स्थिति में नहीं हैं...यह सब देखते हुए कांग्रेस ने राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है - सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते उन्हें सरकार बनाने का मौका दिया जाए... राज्यपाल को अब निर्णय लेना है कि किस तरह इस संकट का हल निकालें... BJP भी पसोपेश में है - करें, तो क्या करें... यदि नया मुख्यमंत्री बनाते हैं, तो विश्वासमत लेना पड़ेगा और वहां दिक्कत हो सकती है, क्योंकि MGP, GFP और निर्दलीय विधायक साफ कर चुके हैं कि उनका सर्मथन पर्रिकर को था, और वह किसी और को स्वीकार नहीं करेंगे...Advertisementयही वजह है कि BJP अब एक उपमुख्यमंत्री बनाने पर विचार कर रही है, मगर इस आइडिया को लेकर BJP में ही फूट पड़ती नज़र आ रही है - कौन बनेगा अगला उपमुख्यमंत्री... वैसे, पहले यह ख़बर आई थी कि केंद्र में मंत्री श्रीपद नायक को मुख्यमंत्री बनाकर गोवा भेजा जाएगा, मगर उससे बात बनती नहीं दिखी... ऐसे में कांग्रेस खेमे में उत्साह है, और कांग्रेस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत सक्रिय हो गए हैं...कांग्रेस के पास विधानसभा में 16 विधायक हैं और एक विधायक उनकी सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, यानी NCP का भी है... यदि MGP, GFP और निर्दलीय पाला बदलते हैं, तो कांग्रेस सरकार बनाने की हालत में होगी... मगर इस समय तो सबसे बड़ा सवाल यही है कि राज्यपाल क्या करेंगी, क्योंकि कर्नाटक में राज्यपाल की भूमिका पर काफी सवाल उठाए गए थे... वहां राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी के रूप में BJP के बीएस येदियुरप्पा को शपथ दिलाई थी, जो बहुमत साबित करने से पहले ही इस्तीफा दे गए... अब देखना होगा, गोवा में राजनैतिक ऊंट किस करवट बैठता है...डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Source:NDTV

September 20, 2018 10:30 UTC


Ballistic missile test-fired from ITR at Chandipur

BALASORE (ODISHA): Defence Research and Development Organisation DRDO ) successfully flight tested the indigenously developed surface-to-surface tactical missile ‘Prahar’, from Launch Complex-III, ITR, Balasore in Odisha , today.Range stations and electro optical systems tracked the missile throughout its flight. ‘Prahar’ is a contemporary weapon system capable of carrying multiple types of warheads and neutralizing a wide variety of targets.The missile was launched from a mobile launcher. "It is a solid fuelled short-range missile fitted with inertial navigation system ," sources said.It is a quick reaction, all-weather, all-terrain, highly accurate battlefield support tactical weapon system, the sources said.Various tracking radars as well as electro-optic equipment are engaged to track and monitor the missiles trajectory.Defence Minister Nirmala Sitharaman congratulated the DRDO for the successful mission and said “indigenously developed ‘Prahar’ will further strengthen our defence capabilities.”Chief of the Army Staff General Bipin Rawat, Secretary, Department of Defence R&D and Chairman DRDO Dr G. Satheesh Reddy witnessed the launch and complimented all the team members.Prior to the missiles test launch, 4,494 people residing within 2 km radius of the launch pad No.-3 at Chandipur were temporarily evacuated to nearby shelters in the morning, officials said.A district revenue official said, "As a safety measure, 4,494 people residing in five villages adjacent to the missile launch site were temporarily shifted by the district administration to nearby two shelters with compensation. "They returned to their houses after getting clearance from ITR authorities soon after the test was over, the official said. (With inputs from PTI)

September 20, 2018 10:18 UTC


Asia Cup: केदार जाधव ने बताया कैसे धौनी के इस एक फैसले ने बदली उनकी ज़िंदगी

Asia Cup: केदार जाधव ने बताया कैसे धौनी के इस एक फैसले ने बदली उनकी ज़िंदगीनई दिल्ली, जेएनएन। एशिया कप में पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में केदार जाधव ने तीन विकेट चटकाकर पाकिस्तान की कमर ही तोड़ दी थी। इस मैच में केदार ने पाकिस्तानी कप्तान सरफराज़ अहमद के साथ-साथ आसिफ अली और शादाब खान के भी विकेट चटकाए। जाधव की इन तीन अहम विकेटों की वजह से ही पाकिस्तान की टीम 162 रन के स्कोर पर ऑलआउट हो गई थी। मैच के बाद जाधव ने अपनी गेंदबाज़ी को लेकर कुछ राज़ खोले और साथ ही उन्होंने बताया कि कैसे धौनी के एक फैसले ने उनकी पूरी ज़िंदगी ही बदल दी।जाधव का गेंदबाज़ी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनकेदार जाधव ने पाकिस्तान के खिलाफ 9 ओवर में 23 रन देकर तीन विकेट लिए। ये गेंदबाज़ी करते हुए केदार जाधव का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। इससे पहले जाधव का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पांच ओवर में 29 रन देकर तीन विकेट था। ये काम उन्होंने 2016 में न्यूज़ीलैंड के खिलाफ किया था, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 23 रन देकर तीन शिकार किए।धौनी के इस फैसले ने बदली ज़िंदगीपाकिस्तान के खिलाफ शानजार प्रदर्शन करने के बाद चारों तरफ सिर्फ केदार जाधव की गेंदबाजी की ही चर्चा हो रही है। जिस तरह से उन्होंने अपने अजीबोगरीब एक्शन से पाकिस्तानी बल्लेबाजों को परेशान किया वो चर्चा का विषय बना हुआ है। जाधव ने बताया कि कैसे धौनी के एक फैसले ने उनकी पूरी ज़िंदगी बदल दी। जाधव ने कहा कि 2016 में न्यूजीलैंड के खिलाफ धौनी ने मुझसे गेंदबाजी करने को कहा, 'तब से एक खिलाड़ी के तौर पर मेरी पूरी जिंदगी ही बदल गई।' धौनी की वजह से ही आज वो इतने अच्छे पार्ट टाइम गेंदबाज बन गए हैं।जाधव ने कहा कि वो सही ठिकाने पर गेंदबाजी करने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा जब फील्डर नजदीक हों तो बल्लेबाज पर दबाव बनाने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि अगर आप अपने प्लान के मुताबिक गेंदबाजी करेंगे तो उसका रिजल्ट अपने आपको मिलेगा।ये है जाधव की सफलता का राज़जाधव ने अपनी गेंदबाजी को लेकर बड़ी बात कही है। उन्होंने बताया कि नेट में वो ज्यादा गेंदबाजी नहीं करते हैं। सिर्फ कुछ ही ओवर वो नेट में डालते हैं। जाधव का कहना है कि अगर वो नेट में गंभीर होकर ज्यादा गेंदबाजी करने लगेंगे तो जो उन्हें आता है वो भी भूल जाएंगे। इसलिए मैं अपनी लिमिट के अंदर रहता हूं।क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करेंअन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करेंPosted By: Pradeep Sehgal

September 20, 2018 10:18 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care

Loading...