डॉक्टर हैरान! शख्स के पेट से निकाले 8 चम्मच, 2 स्क्रूड्राइवर, 2 टूथब्रश और 1 चाकू...

शख्स के पेट से निकली 8 चम्मच, 2 स्क्रूड्राइवर, 2 टूथब्रश और 1 चाकूहिमाचल प्रदेश से एक चौंकाने वाली खबर आई है. यहां एक शख्स के पेट से 8 चम्मच, 2 स्क्रूड्राइवर, 2 टूथब्रश और चाकू निकाला गया. श्री लाल बहादुर शास्त्री गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, मंडी में इसके पेट से ये सब सामान निकाला गया. (24.05) pic.twitter.com/x97W2nlM5A — ANI (@ANI) May 25, 2019इस शख्स का ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर निखिल का कहना है कि हमें जैसे ही पता चला कि इसके पेट में मेटल के सामान हैं तो हमारी टीम ने तुंरत इसका ऑपरेशन किया. बात यह भी चौंकाने वाली है कि मानसिक रोग से पीड़ित इस शख्स ने मेटल की चम्मचों, स्क्रूड्राइवर, चाकू आदि खाया कैसे होगा?

Source:NDTV

May 25, 2019 07:39 UTC


delhi lok sabha results: दिल्ली में 147 उम्मीदवारों की जमानत जब्त, 3 आप और एक कांग्रेस उम्मीदवार भी - out of 7 lok sabha seats in delhi 3 aam aadmi party candidate can not save their deposit

लोकसभा चुनावों में इस बार दिल्ली से 4 बड़े नाम ऐसे रहे जो अपनी जमानत भी नहीं बचा सके। दिल्ली की सात सीटों पर 164 प्रत्याशी आमने-सामने थे। इनमें से 147 की जमानत जब्त हो गई। 4 बड़े नामों में 3 आम आदमी पार्टी के हैं, जबकि एक कांग्रेस से। इनमें साउथ दिल्ली सीट से कांग्रेस प्रत्याशी विजेंद्र, चांदनी चौक सीट से आप के पंकज गुप्ता, नॉर्थ ईस्ट सीट से आप के दिलीप पांडेय और नई दिल्ली सीट से आप प्रत्याशी बृजेश गोयल हैं। ये सभी प्रत्याशी अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।साउथ और ईस्ट दिल्ली सीट पर 25 प्रत्याशियों की, चांदनी चौक सीट पर 24 प्रत्याशियों की, ईस्ट दिल्ली सीट पर 23, नई दिल्ली पर 22, नॉर्थ वेस्ट सीट पर 20 और नई दिल्ली सीट पर 8 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। कई प्रत्याशी ऐसे भी रहे, जिन्हें 500 से भी कम वोट मिले। सबसे कम वोट नई दिल्ली सीट पर प्रिज्म के उम्मीदवार राज शेखर को मिले। इसी सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार कृपाशंकर सी पांडे को 184 वोट मिले। साउथ दिल्ली सीट पर प्रिज्म के उम्मीदवार जितेंद्र शर्मा को 200 वोट मिले।बता दें कि दिल्ली की 70 में से 65 लोकसभा क्षेत्रों में बीजेपी को सबसे अधिक वोट मिले। कांग्रेस अल्पसंख्यकों के बीच अभी भी विश्वसनीय विकल्प नजर आ रही है क्योंकि मुस्लिम बहुल 7 में से 5 विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को सर्वाधिक वोट मिले। आम आदमी पार्टी की चिंता लोकसभा चुनाव के वोट आंकड़े बढ़ा सकते हैं।

May 25, 2019 07:28 UTC


ये हैं भारत में 20,000 रुपये से कम में मिलने वाले बेस्ट टीवी

20,000 रुपये से कम के प्राइस सेगमेंट में एक अच्छा टीवी खरीदने का विचार कर रहे हैं तो इस रेंज़ में कई विकल्प हैं। लेकिन सही स्क्रीन साइज़, रिजॉल्यूशन और फीचर्स पहले आपके कंट्रोल में नहीं थे। लेकिन अब नए ब्रांड के आने से कई चीजें बदली हैं और अब कम बजट में भी बड़े स्क्रीन वाले टीवी मार्केट में उपलब्ध हैं। 1,000 रुपये प्रति-इंच की जो सीमा थी वह भी अब टूट चुकी है, अब ग्राहक 20,000 रुपये से कम में अधिक चीजों की उम्मीद कर सकते हैं। हमने 20,000 रुपये से कम में आने वाले बेस्ट टीवी की एक लिस्ट तैयार की है। इस लिस्ट में अलग-अलग साइज़ और ब्रांड के टीवी शामिल किए गए हैं, साथ ही कुछ पॉपुलर ऑनलाइन विकल्प भी हैं। जानें कि नीचे दी गई लिस्ट में से कौन सा टीवी आपके लिए बेस्ट विकल्प है।भारत में सबसे अच्छा बजट टीवी: Xiaomi Mi TV 4C Pro (32-इंच)स्मार्टफोन सेगमेंट के बाद Xiaomi ने पिछले साल टीवी सेगमेंट में कदम रखा था। शाओमी का पहला प्रोडक्ट 55-इंच का 4K Mi TV 4 था, लेकिन इसके बाद Xiaomi ने कई किफायती टीवी मार्केट में लॉन्च किए। शाओमी ब्रांड के भारत में अब कुल सात टीवी उपलब्ध हैं जिनमें 32-इंच का Mi TV 4C Pro सबसे किफायती विकल्प है। भारत में इस टीवी का दाम 12,999 रुपये है।32 इंच का Xiaomi Mi TV 4C Pro में HD रिज़ॉल्यूशन (1366x768 पिक्सल) एलईडी पैनल है जो 60 हर्ट्ज रिफ्रेश रेट के साथ आता है, साथ ही इसमें डीटीएस एचडी ट्यूनिंग के साथ 10 वाट के दो स्पीकर भी हैं। यह एक स्मार्ट टीवी है, रिमोट में माइक्रोफोन है और यह Google वॉयस सर्च फीचर से लैस है।Mi TV 4A (32) बेशक इससे किफायती है लेकिन हम इस टीवी की सलाह देते हैं क्योंकि यह नए वॉयस ऐनेबल रिमोट और बेहतर साउंड के साथ आता है। लेकिन Mi TV 4C Pro (32-इंच) मॉडल की कीमत लगभग Mi TV 4A Pro (32) के समान है। यह टीवी हमारी पहली पसंद है क्योंकि इस कीमत में यह कई फीचर्स से लैस है। इस स्मार्ट टीवी में अच्छा पैनल है, इतना ही नहीं इसकी कीमत भी अन्य नॉन-स्मार्ट टीवी की तुलना में कम है।पैचवॉल ओएस से लैस इस टीवी के साथ यूज़र कंटेंट को आसानी से स्ट्रीम कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त इसमें Google सर्विस बिल्ट-इन हैं जैसे कि वीडियो और ऑडियो की कास्टिंग के लिए क्रोमकास्ट, YouTube और Google Play। गूगल प्ले की मदद से आप अतिरिक्त ऐप्स और अन्य सर्विस को अपने टीवी के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।ऑनलाइन कंटेंट देखने के इच्छुक यूज़र्स के लिए Xiaomi Mi TV 4C Pro सबसे किफायती विकल्प है। टीवी में कई फीचर्स हैं तो ऐसे में ग्राहकों को अलग से स्ट्रीमिंग डिवाइस खरीदने की भी आवश्यकता नहीं हो सकती है।TCL 40S62FS (40-इंच)जब स्पेसिफिकेशन की बात आती है तो भारत में टीसीएल रेंज संभवतः सबसे रोमांचक है। TCL 40S62FS टीवी बढ़िया स्पेसिफिकेशन से लैस है। 20,000 रुपये से कम कीमत में यह टीवी 40 इंच का फुल-एचडी रिज़ॉल्यूशन डिस्प्ले पैनल के साथ आता है जो ग्राहकों को बड़े डिस्प्ले के साथ स्मार्ट कनेक्टिविटी, स्टीरियो स्पीकर, डॉल्बी ऑडियो और स्क्रीन मिररिंग जैसी सुविधाओं देता है। यूज़र ऑनलाइन कंटेंट आसानी से देख पाएं इसलिए इस टीवी में Netflix और YouTube पहले से ही बिल्ट-इन हैं।TCL के पास एंड्रॉयड इंटरफेस वाले टीवी भी हैं लेकिन इनकी कीमत थोड़ी ज्यादा है। कंपनी का TCL 40S6500 थोड़ा महंगा है लेकिन यह एंड्रॉयड टीवी है लेकिन इस विशेष मॉडल में TCL लॉन्चर दिया गया है। हालांकि इस कीमत में जो गौर करने वाली बात है वह है इसका पैनल रिज़ॉल्यूशन और साइज।पैनल शार्प है और मोशन भी कभी-कभी स्मूथ नहीं है। यदि आप ऑनलाइन स्ट्रीमिंग, केबल या डीटीएच सबसे अधिक देखते हैं तो TCL 40S62FS इस कीमत में आपके लिए एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।Samsung UA32N4000 (32-इंच)ऊपर बताए गए जिन दो टीवी की हमने सलाह दी वह कीमत के अनुसार अच्छे टीवी हैं और उन्हें केवल ऑनलाइन ही खरीदा जा सकता है। लेकिन अगर आप टीवी खरीदने से पहले पास के टीवी शोरूम में जाकर उसे देखना चाहते हैं तो हमारे पास आपके लिए एक विकल्प है। Samsung UA32N4000 सैमसंग के सबसे किफायती विकल्पों में से एक है और भारत में इस टीवी की कीमत 19,800 रुपये है।Samsung ब्रांड के इस टीवी में 32 इंच का एचडी (1366x768 पिक्सल) डिस्प्ले पैनल दिया गया है। टीवी के कनेक्टिविटी विकल्पों की बात करें तो इसमें दो HDMI पोर्ट, एक यूएसबी पोर्ट है बिल्ट-इन मीडिया प्लेयर के साथ जो प्रमुख ऑडियो और वीडियो फॉर्मेट को सपोर्ट करता है। इसके अलावा यह टीवी इंडियन सिनेमा मोड के साथ आता है। यह 20,000 रुपये से कम में एक अच्छा विकल्प है। साथ ही आप टीवी खरीदने से पहले टीवी रिटेलर के पास जाकर इसे देख भी सकते हैं।जानिए, हमने इन विकल्पों का चयन कैसे कियाहालांकि ये सभी टीवी हमारे इन-डेप्थ रिव्यू प्रक्रिया से नहीं गुज़रे हैं। हमने अपनी इस लिस्ट को कम रखने के लिए कीमत और स्पेसिफिकेशन के आधार पर इन्हें एक्सपीरियंस किया है। बजट सेगमेंट में आने वाले टीवी की इस लिस्ट को हमने स्पेसिफिकेशन, फीचर, साइज़ आदि कई चीजों को ध्यान में रखकर तैयार किया है।हालांकि इस कीमत के आसपास कम से कम एक 4K टीवी उपलब्ध है लेकिन इसके साथ हमारा अनुभव बहुत अच्छा नहीं था। इसका मतलब इस कीमत में आपको 32 इंच के टीवी ही मिलेंगे जो फीचर्स से लैस होंगे। इस प्राइस सेगमेंट में एलईडी-एलसीडी टीवी ही उपलब्ध हैं। हमने ऑनलाइन कीमत एवं कंपनियों की आधिकारिक वेबसाइट पर लिस्टिंग से अपनी इस लिस्ट को छोटा कर पाएं हैं। हमारी इस लिस्ट में वो टीवी शामिल हैं जो ऑनाइन आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन साथ ही हमने उन टीवी को भी अपनी इस लिस्ट में शामिल किया है जो रिटेल स्टोर पर भी मिल सकते हैं।क्या इस कीमत पर स्मार्ट टीवी लेना सही हैस्मार्ट कनेक्टिविटी फीचर के जुड़ने से किसी भी टीवी की कीमत बढ़ जाती है। दूसरी ओर अगर आप चाहें तो नॉन-स्मार्ट टीवी खरीद सकते हैं जो किफायती होगा, आप चाहें तो स्ट्रीमिंग डिवाइस को खरीद सकते हैं।हालांकि यदि आप

Source:NDTV

May 25, 2019 07:28 UTC


CWC Meeting : राहुल गांधी के इस्तीफे के पेशकश की खबरों को कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने किया खारिज

खास बातें कांग्रेस के सामने कई संकट मध्य प्रदेश और कर्नाटक में सरकार बचाने की चुनौती CWC की बैठक जारीलोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन को लेकर राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है. हालांकि कांग्रेस प्रवक्ता ने रणदीप सुरजेवाला ने राहुल की ओर से इस्तीफा पेशकश करने की खबरों को नकार दिया है. आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव में देश भर में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के कारणों पर मंत्रणा करने के लिए कांग्रेस कार्यकारी समिति (सीडब्ल्यूसी) की शनिवार को बैठक हो रही है. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मात्र 52 सीटें मिलने के बाद से ही मंथन शुरू हो चुका है. लोकसभा चुनाव मे हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफों का दौर​इनपुट : आईएनएस से भी

Source:NDTV

May 25, 2019 07:27 UTC


जानिए, क्यों नरेंद्र मोदी और पाक पीएम इमरान खान के बीच बन रही है मुलाकात की संभावना

नई दिल्ली (जेएनएन): Lok sabha election 2019 में पीएम नरेंद्र मोदी को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्ते किस करवट बैठेंगे। क्या दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू होगी या फिर तनाव का दौर जारी रहेगा? हालांकि इस मामले में भारत का रुख बहुत स्पष्ट है कि जब तक पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद नहीं करेगा, तब तक दोनों देशों में बातचीत शुरू नहीं होगी, लेकिन इसके बावजूद इस बात की संभावना है कि पीएम मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के बीच अगले महीने मुलाकात हो सकती है।अगले महीने यानी जून की 14-15 तारीख को किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में शंघाई कोऑपरेशन आर्गेनाइजेशन (एससीओ) की बैठक होने वाली है। इस बैठक में नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान शिरकत करने वाले हैं। इसलिए इस बात की बहुत ज्यादा संभावना है कि इस दौरान दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच मुलाकात हो जाए। पाकिस्तान के एक न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए भारत में पाकिस्तान के पूर्व उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि मोदी के दोबारा सत्ता में आने के बाद मुझे नहीं लगता है कि पाकिस्तान और भारत के बीच संबंध किसी बेहतरी की तरफ जाएंगे। शायद दोनों देशों में एनगेजमेंट का प्रोसेस शुरू हो जाए। संभावना है कि अगले महीने एससीओ की हेड्स ऑफ स्टेट की बैठक में मोदी और इमरान खान के बीच बातचीत हो सकती है।चैनल से बातचीत करते हुए वरिष्ठ पत्रकार और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के इस्लामाबाद से सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद ने भी कहा कि इसकी काफी संभावना है कि बिश्केक में मोदी और इमरान खान के बीच बातचीत हो। लेकिन पाकिस्तान को कश्मीर पर मजबूत रवैया अपनाना चाहिए। भारत से बातचीत के लिए याचना करने की जरूरत नहीं है।इमरान खान सरकार की प्रवक्ता फिरदौस आशिक अवान ने कहा कि बातचीत किसी भी मुद्दे को हल करने का एकमात्र रास्ता है। लेकिन भारत हमेशा से वार्ता से कन्नी काटने का रवैया अपनाता रहा है। पीएम इमरान खान कह चुके हैं कि अगर भारत दोस्ती की तरफ एक कदम बढ़ाएगा तो पाकिस्तान दस कदम बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि मोदी की जीत पाकिस्तान के अवाम के लिए न तो यह कोई अच्छी खबर है न बुरी। हमारे लिए सिर्फ एक खबर है।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Brij Bihari Choubey

May 25, 2019 07:17 UTC


bulandshahr triple murder case: बुलंदशहर: तीन बच्चों की हत्या से हड़कंप, गोली मारने के बाद कुएं में फेंके शव - bulandshahr triple murder case three kids shot dead bodies thrown in well

तीन बच्चों के मर्डर के केस में एसएसपी एन कोलांचि ने त्वरित कार्रवाई की है। एसएसपी ने नगर कोतवाल ध्रुव भूषण दूबे और मुंशी अशोक कुमार शर्मा को निलंबित कर दिया है। एसएसपी ने बताया कि परिवार को शक है कि रोजा इफ्तार पर न बुलाए जाने से नाराज एक रिश्तेदार ने घटना को अंजाम दिया है। हालांकि पुलिस अभी छानबीन करने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचने की बात कर रही है।बुलंदशहर में पुलिस कार्रवाईसूत्रों ने बताया है कि प्रदेश के आला पुलिस अफसरों ने बुलंदशहर के अधिकारियों से जवाब-तलब किया है। सवाल यह है कि तीनों बच्चों की हत्या कर शव इतनी दूर सलेमपुर धतूरी में फेंक दिया जाता है और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती है। सवाल यह भी उठ रहे हैं कि अगर स्थानीय लोग शवों की सूचना नहीं देते तो क्या पुलिस उन्हें बरामद कर पाती। यह स्थानीय पुलिस के एक बड़े अमले की नाकामी बताई जा रही है।एसएसपी एन कोलांचि भी नगर कोतवाली के रवैये से खासे खफा हैं। उन्होंने बताया कि मामले में जिसने भी लापरवाही बरती उसके खिलाफ ऐक्शन लिया जाएगा। उन्होंने दावा किया है कि जल्द ही घटना का खुलासा कर दिया जाएगा। एसएसपी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यूपी डायल 100 की सेवा के जरिए कोई भी सूचना तुरंत दी जा सकती है लेकिन इस घटना की सूचना ढाई घंटे बाद दी गई। उन्होंने कहा कि वह परिवार की गलती नहीं देना चाहते लेकिन पहले सूचना मिलने में देरी हुई और फिर पुलिस की ओर से लापरवाही बरती गई।

May 25, 2019 07:13 UTC


street dog murder: पत्नी को कुत्ते ने काटा तो पति ने पीटकर कर दी हत्या, केस दर्ज - man batters stray dog to death after it bites his wife crowd gathers but no one stops him

दिल्ली के स्वरूप नगर इलाके में एक आदमी का कुत्ते को बेरहमी से पीटने का विडियो वायरल हो गया। इसके बाद एक जानवरों के लिए काम करनेवाली संस्था ने पिटाई करनेवाले शख्स के खिलाफ पुलिस में शिकायत की है। आरोपी शख्स की पिटाई के कारण स्ट्रीट डॉग की मौत हो गई। आरोपी शख्स राजकुमार की पत्नी को कुत्ते ने काट लिया था, जिसके बाद नाराज नाराज राजकुमार ने बहुत बेरहमी से कुत्ते की पिटाई की।आउटर नॉर्थ के डीसीपी गौरव शर्मा ने बताया कि भलस्वा डेयरी पुलिस स्टेशन ने मामले में आरोपी राजकुमार के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। आरोपी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए एक सीडी और विडियो रिकॉर्डिंग भी पेश की गई है। विडियो में नजर आ रहा है कि आरोपी शख्स एक डंडे से कुत्ते की बहुत बेरहमी से पिटाई कर रहा है।विडियो में नजर आ रहा है कि पिटाई के कारण कुत्ता काफी दर्द में भी नजर आ रहा है, लेकिन शख्स उसकी पिटाई करना नहीं छोड़ता। पिटाई के कारण कुछ देर बार कुत्ते के शरीर से कोई हरकत होती नजर नहीं आती है। हालांकि, विडियो में आसपास काफी लोग नजर आते हैं, लेकिन कोई भी बेजुबान जानवर की मदद करने की कोशिश नहीं करता।इस पूरी घटना के बाद राजकुमार को गिरफ्तार कर लिया गया और कुछ देर बाद बेल पर रिहा भी कर रिया है। पुलिस का कहना है कि शाम के वक्त राजकुमार की पत्नी अपने पालतू कुत्ते के साथ बाहर थी जब स्ट्रीट डॉग ने उन पर हमला कर दिया। इसके बाद राजकुमार ने बहुत बेरहमी से कुत्ते की पिटाई की जिसके कारण उसकी मौत हो गई।

May 25, 2019 07:07 UTC


दीपेंद्र की हार व भाजपा की जीत में मिला यह बड़ा संकेत, जानें वोट का खास गणित

जेएनएन, रोहतक। हरियाणा में भाजपा ने सभी दस लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की, लेकिन रोहतक की सीट यहां अंत तक फंसी रही। प्रदेश में अगर कहीं टक्कर दिखी तो वह सिर्फ रोहतक में। यहां आखिर तक प्रशासन, प्रत्याशियों और उनके समर्थकों की सांसें अटकी रहीं। हालांकि वीरवार सुबह से शुक्रवार तड़के तक हुई मतगणना से तस्वीर साफ हो गई। EVM से डाले गए मतों में भाजपा के प्रत्याशी डॉ. अरविंद शर्मा आगे रहे। इसके साथ ही Postal ballot paper भी अरविंद के पक्ष में सर्वाधिक पाए गए। इससे यह भी साफ संकेत मिले कि लगातार यह कहा जा रहा था कि कर्मचारी वर्ग सरकार से नाराज है, लेकिन Postal ballot paper की गिनती ने यह साफ कर दिया कि वह सरकार से नाराज नहीं हैं।कांग्रेस प्रत्याशी दीपेंद्र सिंह हुड्डा को EVM के मतों में पिछड़ने के बाद लग रहा था कि Postal ballot paper को लेकर उम्मीदें बनी हुई थीं। लेकिन करीब 4423 Postal ballot paper रद होने से दीपेंद्र की हार तय हो गई थी। इन्हीं रिजेक्ट मतों को लेकर आखिरी समय तक राजनीति गर्माई रही। यही कारण रहा कि शुक्रवार की सुबह 3.45 बजे डॉ. अरविंद की जीत को लेकर घोषणा हो सकी। पोस्ट बैलेट में भाजपा के खाते में 7603 व दीपेंद्र के खाते में 2736 मत गए।मतगणना के बाद निर्दलीय प्रत्याशियों को भी राजनीति में हकीकत का पता चल गया। इस दफा आठ निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में थे। इन सभी प्रत्याशियों को 8333 मत मिले। पांच निर्दलीय प्रत्याशी तो तीन अंकों के मतों में ही सिमट गए। सिर्फ तीन ही निर्दलीय प्रत्याशी चार अंकों तक मत पा सके। Postal ballot paper के मतपत्रों की मतगणना के दौरान 62 मत नोटा के लिए भी पड़े, जबकि कुल नोटा के मतों की बात करें तो 3001 मतदाताओं ने पसंद किया।पांच विस क्षेत्रों में कांग्रेस तो चार में भाजपा को मिली बड़ी जीतहरियाणा की सबसे हॉट रोहतक लोकसभा पर जीत से भाजपा पूरी तरह से उत्साहित है, लेकिन कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के विधानसभा क्षेत्र में हार भी हुई है। रोहतक लोकसभा क्षेत्र में नौ विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी ने पांच तो चार में भाजपा ने बड़े अंतर से जीत हासिल की है। भाजपा ही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के लिए भी आगामी विधानसभा चुनाव खतरे की दस्तक हैं, क्योंकि रोहतक शहर के अलावा कलानौर में कांग्रेस की हार और महम में जीत का अंतर पहले से कम होना उनके लिए भी कठिन डगर मानी जा रही है।भाजपा प्रत्याशी डॉ. अरविंद शर्मा कड़े मुकाबले के बाद रोहतक की सीट जीतने में कामयाब हो गए। रेवाड़ी जिला के कोसली विधानसभा से रिकार्ड 74 हजार 890 की भाजपा की जीत में निर्णायक साबित हुई है। हालांकि यहां से भाजपा से ही विक्रम ठेकेदार विधायक हैं और पहले से ही कांग्रेस यहां से भाजपा की बढ़त मानकर चल रही थी, लेकिन झज्जर जिला के बादली विधानसभा क्षेत्र से भाजपा की हार हुई है क्योंकि यहां से कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ विधायक हैं। पांच विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस को बढ़त मिली है। लेकिन कलानौर से हार कांग्रेस के लिए खतरनाक साबित हुई।रोहतक लोकसभा में जीत के साथ ही भाजपा ने कांग्रेस और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के गढ़ कहे जाने वाले कलानौर विधानसभा क्षेत्र में भी सेंध लगा दी है। राजनीतिक विश्लेषक चुनाव होने के बाद यहां से कांगेस प्रत्याशी दीपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़त का दावा कर रहे थे, लेकिन चुनावी नतीजों ने सभी को चौंकाते हुए भाजपा प्रत्याशी अरविंद शर्मा को जीत का आशीर्वाद दिया।दरअसल, कलानौर में किसी भी कार्यक्रम में पहुंचे हुड्डा परिवार सार्वजनिक मंच से कलानौर और सांघी को अपने परिवार का हिस्सा मानते थे। भूपेंद्र सिंह हुड्डा के पिता चौधरी रणबीर सिंह हुड्डा संयुक्त पंजाब के समय में कलानौर से मंत्री भी रह चुके हैंं। यही नहीं भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र सिंह हुड्डा को जितवाने में कलानौर की हमेशा से ही अहम भूमिका रही है। लोकसभा चुनाव के दौरान खुद मुख्यमंत्री ने विजय संकल्प रैली के दौरान अपने आप को कलानौर का बेटा होने की बात कहकर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगे थे।कलानौर विधानसभा पर कांग्रेस का ही ज्यादा दबदबा रहाकलानौर विधानसभा चुनाव में इस सीट पर लगभग कांग्रेस का ही दबदबा रहा है। 1991 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी करतार देवी ने इनेलो के हरदूल सिंह को हराकर इस सीट पर कब्जा किया था। वहीं 1996 में भी करतार देवी ने भाजपा के जय नारायण खुंडिया को हराकर फिर जीत हासिल की थी। 2000 के चुनाव में भाजपा प्रत्याशी सरिता नारायण ने करतार देवी को हराकर भाजपा की जीत का परचम यहां लहराया था।कांग्रेस की प्रत्याशी करतार देवी ने फिर वापसी करते हुए 2005 के विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की थी। करतार देवी की मृत्यु के बाद 2009 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने शकुंतला खटक ने इनेलो के नागाराम वाल्मीकि को हराकर इस सीट पर फिर कांग्रेस का कब्जा किया। 2014 के चुनाव में शकुंतला खटक ने भाजपा के रामअवतार वाल्मीकि को हराकर फिर कांग्रेस का परचम यहां से लहराया।कृषि मंत्री का क्षेत्र पिछड़ा कौशिक जिताने में रहे सफलकृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ बादली से विधायक हैं, लेकिन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी बादली से 11554 की बढ़त लेने में सफल रहे। यह कृषि मंत्री के लिए चिंता का विषय बन गया है। भाजपा संगठन भी इसको लेकर गंभीर है, लेकिन बहादुरगढ़ से भाजपा विधायक नरेश कौशिक अपना रूतबा कायम करने में कामयाब रहे।किंगमेकर बनकर निकले सहकारिता मंत्री ग्रोवरसहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर लोकसभा चुनाव में एक तरह से किंगमेकर बनकर उभरे हैं। रोहतक नगर निगम मेयर का चुनाव जीतने के बाद ही मंत्री ग्रोवर ने दावा किया था कि रोहतक से दीपेंद्र सिंह हुड्डा को हरा सकते हैं और हराएंगे। रोहतक विधानसभा में जहां 2014 में दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने काफी बढ़त ली थी।हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंपंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंलोकसभा चुनाव और क्रिकेट से

May 25, 2019 07:07 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       VMware

Loading...