भास्कर के मनोज पुरोहित व फोटोग्राफर विकास बोड़ा को माणक अलंकरण - jodhpur News,जोधपुर न्यूज़,जोधपुर समाचार

खोजपूर्ण और रचनात्मक पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले माणक अलंकरण-2018 व चार विशिष्ट पुरस्कारों की घोषणा बुधवार को पावटा स्थित जलतेदीप कार्यालय में आयोजित संगोष्ठी में चयन समिति की ओर से मुख्य अतिथि जेएनवीयू के कुलपति डॉ. गुलाबसिंह चौहान ने की। इसमें दैनिक भास्कर जोधपुर के उपमुख्य संवाददाता मनोज कुमार पुरोहित को माणक अलंकरण देने की घोषणा की गई। इसके अलावा चार विशिष्ट पुरस्कारों की श्रेणी में छायाकार-कार्टूनिस्ट श्रेणी में दैनिक भास्कर जोधपुर के छायाकार विकास बोड़ा, मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर के जनसंपर्क अधिकारी डाॅ. रमेश कुमार रावत, विशिष्ट पुरस्कार (इलेक्ट्रॉनिक मीडिया) जयपुर के योगेशचंद्र शर्मा को एवं विशिष्ट पुरस्कार जोधपुर के अश्विनी व्यास को दिया जाएगा। उल्लेखनीय है, कि चयनित पत्रकारों को 2 अक्टूबर 2019 को आयोजित समारोह में सम्मानित किया जाएगा।मनोज पुरोहितविकास बोड़ा

December 12, 2018 22:30 UTC


akhilesh yadav: akhilesh yadav is following bsp chief mayawati in big political decisions - मायावती की 'छाया' में चल रहे अखिलेश यादव!

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ी बीएसपी की मुखिया मायावती ने बुधवार सुबह कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया। इसके ठीक आधे घंटे बाद एसपी मुखिया अखिलेश यादव भी माया के नक्शे-कदम पर चलते दिखे। अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर अपने इकलौते विधायक का समर्थन कांग्रेस को देने का ऐलान कर दिया। माया की 'छाया' में चलते दिख रहे अखिलेश यादव इस फॉर्म्युले को गोरखपुर-फूलपुर लोकसभा चुनाव के बाद से ही अमल कर रहे हैं।पार्टी सूत्रों का कहना है कि अखिलेश किसी भी कीमत पर गठबंधन की राह में कोई रोड़ा नहीं चाहते, इसलिए वह नहीं चाहते कि उनका कोई भी कदम मायावती को किनारा कसने का मौका दे। गोरखपुर-फूलपुर में बीजेपी को हराया भले ही एसपी ने है, लेकिन तेवर और हौसले मायावती के बुलंद हैं। वजह यह थी कि जीत का पूरा श्रेय बीएसपी को देकर महागठबंधन की शर्तें तय करने का पूरा अधिकार एसपी मुखिया अखिलेश यादव ने मायावती के हाथों में रख दिया।इसका असर यह रहा कि 'दबाव की सियासत' में माहिर मायावती ने राज्यसभा चुनाव में रघुराज प्रताप सिंह ऊर्फ 'राजा भैया' और आरएलडी की भूमिका को लेकर अखिलेश यादव को अनुभवहीन करार दे दिया। इसके बाद से ही एसपी अमूमन हर बड़े सियासी फैसलों में इस समय मायावती की 'फॉलोअर' की ही भूमिका में नजर आ रही है।2014 में जीरो और 2017 में 19 सीटों पर सिमटने वाली बीएसपी के दिन बदलने में एसपी की ही अहम भूमिका रही। सूत्रों की मानें तो गोरखपुर में एसपी की जीत में बीएसपी के समर्थन से कहीं अधिक भूमिका स्थानीय मतदाताओं की नाराजगी व सही प्रत्याशी चयन की थी। हालांकि, पूरा क्रेडिट बीएसपी को गया और इसके साथ ही बीजेपी को हराने का एक 'अचूक' फॉर्म्युला भी ईजाद हो गया।इसके बाद दूसरे राज्यों के चुनाव खासकर कनार्टक में भी बीएसपी का खाता खुलना व विपक्षी एकता के मंचों पर मायावती को अधिक तवज्जो मिलना भी बीएसपी के पक्ष में गया। वहीं, अखिलेश यादव कम सीटें मिलने पर भी मायावती के साथ गठबंधन करने जैसे बयान देते रहे। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस के गठबंधन की पहली पसंद बीएसपी थी। मायावती के इंकार के बाद ही एसपी से चर्चा की कवायद आगे बढ़ी थी।इन चुनावों में भी बीएसपी का प्रदर्शन एसपी से कई गुना बेहतर रहा है। यही वजह है कि मायावती के हौसले बुलंद हैं और अब तक उन्होंने अपने पत्ते सार्वजनिक नहीं किए हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि मायावती के अप्रत्याशित फैसले लेने की आदत से अखिलेश भी पूरी तरह से वाकिफ हैं।दूसरी ओर गठबंधन होने पर जीत के रास्ते आसान होते साफ दिख रहे हैं। इसलिए वह कोई ऐसा कदम नहीं उठाना चाहते, जिसे मायावती को अखिलेश पर ठीकरा फोड़ने का मौका मिल सके। इसलिए यूपी के बाहर की सियासत में भी अपने फैसलों की दिशा मायावती के ही अनुरूप रख रहे हैं। हालांकि, एसपी के अंदर इस नरमी को लेकर संशय भी है कि अगर मायावती ने कहीं 'झटका' दिया तो नरमी की यह रणनीति नुकसान कर जाए।- मायावती ने कहा सम्मानजनक सीटें मिलने पर ही गठबंधन करेंगे। अखिलेश बोले, हम कम पर भी तैयार हैं।- मायावती कांग्रेस पर हमलावर होते हुए छत्तीसगढ़, राजस्थान व एमपी में गठबंधन से पीछे हटीं। इसके बाद अखिलेश के सुर भी कांग्रेस के खिलाफ हो गए।- चंद्रबाबू नायडू की सर्वदलीय बैठक में बीएसपी नहीं गई। इसके बाद एसपी ने भी बैठक से दूरी बना ली।- मायावती ने बुधवार की सुबह राजस्थान, मध्य प्रदेश में कांग्रेस के समर्थन का ऐलान किया। उसके आधे घंटे बाद ही अखिलेश का भी एमपी में समर्थन का ट्वीट आ गया।हमारा संभावित गठबंधन तो है ही। बस औपचारिक घोषणा होनी बाकी है। गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से यह साबित हो चुका है कि नरेंद्र मोदी और बीजेपी को केवल एसपी-बीएसपी ही रोक सकती है। अब हम साथ काम कर रहे हैं, तो वैचारिक तालमेल दिखना स्वाभाविक है।

December 12, 2018 21:41 UTC


भास्कर में आज ही पढ़े मचकुंड पैनोरमा में उकेरे जाने वाला इतिहास

धौलपुर। मचकुंड में नव निर्मित पैनोरमा में जो इतिहास श्रद्धालुओं व सैलानियों को उपलब्ध कराया जाएगा, उसे भास्कर में सबसे पहले दिखाया जा रहा है। जयपुर के कलाकार पैनोरमा को अंतिम रुप देने में लगे हुए हैं। जिसमें जरासंध व कालयवन द्वारा युद्ध की रणनीति बनाने से लेकर मचकुंड महाराज का संपूर्ण इतिहास भव्य फुल साइज की सीनरी, पेटिंग व चित्रकारी से दिखाया जाएगा। यानि की जल्द सैलानियों को पैनाेरमा में धौलपुर के समस्त इतिहास की जानकारी मिलेगी। इसमें श्रीकृष्ण बलराम, युद्ध की रणनीति बनाते जरासंध व कालयवन, कंस के मरने के बाद कंस की प|ी अपने पिता जरासंध के पास मिलने पहंुचने, श्रीकृष्ण का पीछा करता कालयवन, ऋषि श्री शेशिरायन जी की शिवोपासना, कालयवन का पद प्रहार, रणछोड श्रीकृष्ण जी, देव सेना के सेनापति स्वामी कार्तिकेय जी, मचकुंड जी को नींद का वरदान देना, मचकुंड द्वारा देवताओं को रक्षा का वचन, महाराजा मुचुकुंद जी का गंधमादन गुफा में विश्राम इत्यादि इतिहास मिलेगा। इसमें धौलपुर व भरतपुर के इतिहास और धार्मिक स्थलों को 2डी 3डी में दिखाया जाएगा। इसी जगह टूरिस्ट विश्राम गृह भी तैयार किया है।

December 12, 2018 21:00 UTC


Business News: teresa may plans to leave before 2022 election - टेरेसा मे की 2022 चुनाव से पहले पद छोड़ने की योजना

लंदन, 12 दिसंबर (एएफपी) ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने बुधवार को अपने नेतृत्व के पक्ष में विश्वास प्रस्ताव पर अपने सांसदों से समर्थन मांगते हुए उनसे कहा कि उनकी 2022 के चुनाव से पहले पद छोड़ने की योजना है। बंद कमरे में हुई बैठक के बाद कंजरवेटिव पार्टी के सासंद एलेक शेलब्रुक ने पत्रकारों से कहा, ‘‘उन्होंने कहा कि उनका 2022 के चुनाव में नेतृत्व करने का इरादा नहीं है।’’ इस बैठक के बाद विश्वास प्रस्ताव पेश किया गया जिसके नतीजे अंतराष्ट्रीय समयानुसार नौ बजे तक आ जाने की संभावना है। कैबिनेट मंत्री अंबेर रड ने इस बात की पुष्टि की कि मे ने 2022 में चुनाव में नहीं उतरने की बात कही। सांसद निक बोल्स ने कहा कि वह बिल्कुल स्पष्ट थीं कि वह अगले चुनाव में पार्टी का नेतृत्व नहीं करेंगी। बोल्स ने ट्वीट किया, ‘‘वह अब सभी कंजरवेटिव सासंदों का समर्थन पाने की इच्छा रखती हैं ताकि वह ब्रेक्जिट समझौते को पूरा कर पाएं और उसे कॉमंस में बहुमत मिल पाए। ’’ एएफपी राजकुमार नेत्रपालनेत्रपाल

December 12, 2018 19:07 UTC


पंचांग 13 दिसंबरः चम्पा षष्ठी, चंद्रमा कुंभ राशि में

राष्ट्रीय मिति मार्गशीर्ष 22 शक संवत् 1940 मार्गशीर्ष शुक्ल षष्ठी बृहस्पतिवार विक्रम संवत् 2075। सौर मार्गशीर्ष मास प्रविष्टे 28, रवि उल्सानी 05, हिजरी 1440 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 13 दिसंबर सन् 2018 ई०।दक्षिणायण, दक्षिण गोल, हेमंत ऋतु। राहुकाल अपराह्न 1 बजकर 30 मिनट से 3 बजे तक। षष्ठी तिथि अर्धरात्रोत्तर 1 बजकर 49 मिनट तक उपरांत सप्तमी तिथि का आरंभ। घनिष्ठा नक्षत्र सायं 7 बजकर 45 मिनट तक, उपरांत शतभिषा नक्षत्र का आरंभ।हर्षण योग अर्धरात्रोत्तर 12 बजकर 37 मिनट तक उपरांत वज्र योग का आरंभ, कौलव करण मध्याह्न 12 बजकर 28 मिनट तक, उपरांत गर करण का आरंभ। चन्द्रमा दिन रात कुंभ राशि पर संचार करेगा। आज ही स्कन्द (गुह) षष्ठी, चम्पा षष्ठी। (आचार्य कृष्णदत्त शर्मा)

December 12, 2018 19:03 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care

Loading...