Honor 20i, Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M40 में कौन बेहतर?

खास बातें '48 Megapixel Camera' वाला स्मार्टफोन है Redmi Note 7 Pro Honor 20i की कीमत 14,999 रुपये है Galaxy M40 में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप हैHonor 20i भारत में अगले सप्ताह से बिक्री के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। भारतीय मार्केट में Honor 20i की सीधी भिड़ंत Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M40 स्मार्टफोन से होगी। Honor 20i की अहम खासियतों की बात करें तो यह स्मार्टफोन फुल-एचडी+ स्क्रीन, किरिन 710एफ चिपसेट, तीन रियर कैमरे, 4 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज से लैस है। आइए जानते हैं कि स्पेसिफिकेशन और कीमत के आधार पर Honor 20i, Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M40 में कौन बेहतर है? Honor 20i vs Redmi Note 7 Pro vs Samsung Galaxy M40 की भारत में कीमतHonor 20i की कीमत 14,999 रुपये है। यह 4 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज के साथ आएगा। Xiaomi ने Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) के दो वेरिएंट उपलब्ध कराए हैं। 4 जीबी रैम + 64 जीबी स्टोरेज वेरिएंट को 13,999 रुपये में बेचा जाएगा। ग्राहक रेडमी नोट 7 प्रो के 6 जीबी + 128 जीबी वर्ज़न की कीमत 16,999 रुपये है। सैमसंग Galaxy M40 को भारत में 19,990 रुपये में बेचा जाएगा। यह 6 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज के साथ आएगा।Honor 20i और Samsung Galaxy M40 भारत में 18 जून से बिक्री के लिए उपलब्ध होंगे तो वहीं रेडमी नोट 7 प्रो पहले से ही भारत में फ्लैश सेल के जरिए बेचा जा रहा है।Honor 20i बनाम Redmi Note 7 Pro बनाम Samsung Galaxy M40 के स्पेसिफिकेशनतीनों ही स्मार्टफोन डुअल-सिम (नैनो) सपोर्ट और एंड्रॉयड 9 पाई से लैस हैं। Honor 20i में 6.21 इंच का फुल-एचडी+ (1080x2340 पिक्सल) डिस्प्ले है, 19.5:9 आस्पेक्ट रेशियो के साथ। फोन में टॉप पर वाटरड्रॉप नॉच भी है। Redmi Note 7 Pro में 6.3 इंच की फुल-एचडी+ स्क्रीन है, 19.5:9 आस्पेक्ट रेशियो और वाटरड्रॉप नॉच के साथ।फोन के फ्रंट और बैक पैनल पर 2.5डी कर्व्ड गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल हुआ है। सैमसंग गैलेक्सी एम40 में 6.3 इंच का फुल-एचडी+ इनफिनिटी ओ डिस्प्ले है। इस पर कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 की प्रोटेक्शन है। डिस्प्ले पैनल कंपनी की स्क्रीन साउंड टेक्नोलॉजी के साथ आता है। यह हैंडसेट में ऑडियो वाइब्रेशन प्रोड्यूस करता है।Honor 20i vs Redmi Note 7 Pro vs Samsung Galaxy M40 का प्रोसेसरनए हॉनर हैंडसेट में ऑक्टा-कोर किरिन 710 प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है। ग्राफिक्स के लिए माली जी51एमपी4 इंटिग्रेटेड है। रेडमी नोट 7 प्रो में 11एनएम प्रोसेस से बने क्वालकॉम ऑक्टा-कोर स्नैपड्रैगन 675 प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है। सैमसंग ब्रांड के इस हैंडसेट में ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 675 प्रोसेसर के साथ एड्रेनो 612 जीपीयू दिया गया है।Honor 20i vs Redmi Note 7 Pro vs Samsung Galaxy M40 का स्टोरेजहॉनर 20आई स्मार्टफोन 4 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज के साथ आता है, माइक्रोएसडी कार्ड की मदद से स्टोरेज को 512 जीबी तक बढ़ाना संभव है। रैम और स्टोरेज पर आधारित Redmi Note 7 Pro फोन के दो विकल्प हैं- 4 जीबी रैम के साथ 64 जीबी स्टोरेज और 6 जीबी रैम के साथ 128 जीबी स्टोरेज। दोनों ही वेरिएंट 256 जीबी तक के माइक्रोएसडी कार्ड को सपोर्ट करते हैं। सैमसंग गैलेक्सी एम40 की इनबिल्ट स्टोरेज 128 जीबी है और ज़रूरत पड़ने पर 512 जीबी तक का माइक्रोएसडी कार्ड इस्तेमाल करना संभव है।Honor 20i vs Redmi Note 7 Pro vs Samsung Galaxy M40 का कैमराअब बात कैमरा सेटअप की। Honor 20i में पिछले हिस्से पर तीन कैमरे हैं। यहां एफ/ 1.8 अपर्चर वाला 24 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा, एफ/ 2.4 अपर्चर वाला 8 मेगापिक्सल का सेकेंडरी कैमरा और साथ में 2 मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर है। फ्रंट पैनल पर एचडीआर सपोर्ट वाला एफ/ 2.0 अपर्चर से लैस 32 मेगापिक्सल का सेंसर है।Redmi Note 7 Pro डुअल कैमरा सेटअप के साथ आता है। इसमें एफ/ 1.79 अपर्चर वाला 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर है। इसके साथ 5 मेगापिक्सल का सेकेंडरी डेप्थ सेंसर दिया गया है। फोन में एआई सीन डिटेक्शन, एआई पोर्ट्रेट मोड और नाइट मोड जैसे कैमरा फीचर हैं। इसके अलावा फोन में 13 मेगापिक्सल का सेल्फी सेंसर है। इस फोन के रियर कैमरे से यूज़र 4K वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे।Galaxy M40 में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप है। प्राइमरी सेंसर 32 मेगापिक्सल का है। यह एआई सीन ऑप्टिमाइज़र और एफ/ 1.7 लेंस के साथ आता है। पिछले हिस्से पर 5 मेगापिक्सल का सेकेंडरी कैमरा है। यह डेप्थ सेंसर भी है। तीसरा कैमरा 8 मेगापिक्सल का है, यह अल्ट्रा वाइड एंगल लेंस के साथ आता है। फोन में 4के वीडियो रिकॉर्डिंग, स्लो-मो और हाइपरलैप्स के लिए सपोर्ट है। सेल्फी के लिए फोन में 16 मेगापिक्सल का सेंसर दिया गया है।अन्य स्पेसिफिकेशन की बात करें तो तीनों स्मार्टफोन वाई-फाई 802.11एसी, जीपीएस और फिंगरप्रिंट सेंसर से लैस हैं। Honor 20i की बैटरी 3,400 एमएएच की है। लेकिन यह फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट नहीं करती है। रेडमी नोट 7 प्रो फोन की बैटरी 4,000 एमएएच की है और यह क्विक चार्ज 4.0 को सपोर्ट करेगी। Samsung के इस फोन में 3,500 एमएएच की बैटरी है और यह 15 वॉट की फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करती है।Honor 20i फोन का डाइमेंशन 154.8x73.64x7.95 मिलीमीटर है और वज़न 164 ग्राम। Redmi Note 7 Pro की लंबाई-चौड़ाई 154.80x73.64x7.95 मिलीमीटर और वज़न 186 ग्राम है। सैमसंग ने Galaxy M40 की सटीक लंबाई-चौड़ाई नहीं बताई है लेकिन यह पता चला है कि इसकी मौटाई 7.9 मिलीमीटर और वज़न 168 ग्राम होगा।

Source:NDTV

June 15, 2019 06:00 UTC


डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर कुमार विश्वास का ममता बनर्जी पर निशाना, Tweet हुआ वायरल

खास बातें डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर कुमार विश्वास का ट्वीट ममता बनर्जी पर साधा निशाना स्वास्थ्य मंत्री और गृहमंत्री से की अपीलपश्चिम बंगाल में डॉक्टरों से मारपीट की घटना के खिलाफ जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के समर्थन में देश के कई हिस्सों में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहा है. इस मामले को लेकर कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर निशाना साधा है. डॉक्टरों की हड़ताल: 300 डॉक्टरों का इस्तीफा, ममता और केंद्र में वार-पलटवार, जानें अब तक क्या-क्या हुआ? उनका कहना था कि ममता के अल्टीमेटम के कारण देशभर में डॉक्टर हड़ताल पर चले गए. स्वास्थ्य मंत्री कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने ट्वीट के जरिए कहा था, "मुझे काफी दुख है कि पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों पर अत्याचार के विरोध में पूरे देश के डॉक्टरों को हड़ताल करनी पड़ी.

Source:NDTV

June 15, 2019 05:57 UTC


Madhya Pradesh : बुरहानपुर में लगेगा 50वां मुमताज महल फेस्टिवल, 16-17 जून को आयोजन

Madhya Pradesh : बुरहानपुर में लगेगा 50वां मुमताज महल फेस्टिवल, 16-17 जून को आयोजनयुवराज गुप्‍ता, बुरहानपुर। मुगल सम्राट शाहजहां एवं मुमताज महल के प्रेम के साक्षी रहे ऐतिहासिक शहर बुरहानपुर में एक बार फिर उनके इश्क की बातें होंगी। दरअसल, 50वां मुमताज महल फेस्टिवल 16 व 17 जून को आयोजित किया जाएगा। इस मौके पर लगने वाली प्रदर्शनी में ब्रिटिशकाल, फारुखी, मराठा, मुगलकाल की नायाब धरोहरों को रखा जाएगा।इतिहास के जानकार एवं मुमताज महल फेस्टिवल के आयोजक शहजादा मोहम्मद आसिफ खान ने बताया कि शाहजहां की बेगम मुमताज महल ईरान की रहने वाली थीं और दिल्ली से शाहजहां के साथ बुरहानपुर में आकर बसी थीं। मुमताज महल का असली नाम अर्जुमंद बानो था।उनके ससुर मुगल सम्राट जहांगीर ने उन्हें मुमताज महल का उपनाम दिया था। सात जून 1631 को 14वीं संतान को जन्म देते समय मुमताज महल की मौत बुरहानपुर के शाही महल में हुई थी। इसके बाद उनका शव आहूखाना ले जाया गया। आहूखाना के समीप ही पाइन बाग में मुमताज के शव को एक विशेष ताबूत में कब्र में रखा गया। ताबूत को उस समय के विशेष लेप व दवाओं से संरक्षित किया गया था। यहां छह माह कब्र में शव रखा रहा।इसके बाद जब आगरा में ताजमहल का काम पूरा हो गया तब कब्र से शव निकालकर आगरा ले जाया गया और ताजमहल में रखा गया। आज भी इस शाही महल में मुमताज का शाही हमाम, दीवाने खास, दीवाने आम आदि है।1969 में पहली बार 540 रुपए में मनाया गया मुमताज महल फेस्टिवलमुमताज महल फेस्टिवल मनाने का सिलसिला 1969 से शुरू हुआ। पहली बार इसे मनाने वाले आयोजक शहजादा आसिफ खान ने अकेले ही इसकी शुरुआत की। 540 रुपए में पहला आयोजन किया गया था। इसके बाद से यह सिलसिला जारी है। फेस्टिवल के आयोजक शहजादा मोहम्मद आसिफ खान गौरी, डॉ. वासिफ एवं फेस्टिवल के प्रवक्ता अताउल्ला खान ने बताया कि अब यह फेस्टिवल बड़े स्तर पर मनाया जाता है।इस बार मुमताज महल की अस्थायी दफन गाह में मुमताज बेगम की 388वीं बरसी पर 17 जून को कुरआन ख्वानी (कुरआन का पाठ) होगी। इसके साथ ही राजा जयसिंह की छत्री पर देश की शांति और विकास के लिए सर्वधर्म प्रार्थना होगी। इसके बाद रात आठ बजे से फिल्मी अवार्ड का कार्यक्रम होगा। रात 10 बजे ऑल इंडिया मुशायरा और कवि सम्मेलन होगा।फौजी छावनी था बुरहानपुरइतिहासकार कमरुद्दीन फलक के मुताबिक, मुगलकाल में बुरहानपुर मध्यभारत की दूसरी राजधानी थी। मुगल शासकों ने बुरहानपुर को फौजी छावनी बनाया था इसलिए बादशाह यहां पर आते थे। यहीं से दक्षिण की ओर जाने का मुख्य मार्ग है। इसलिए बुरहानपुर को दक्षिण का द्वार भी कहा जाता है। इसके अलावा आर्थिक नजर से यह एक बड़ा व्यापारिक केंद्र भी था।प्रदर्शनी में यह रहेगा खासशहर के मोहम्मद नौशाद शेख के पास कई नायाब वस्तुओं का संग्रह है। इनमें से एक चूड़ी वाला बाजा (ग्रामाफोन) है। उनके पास इस विशेष बाजे की 200 रिकॉर्डर (सीडी) का रिकॉर्ड है। उन्होंने बताया कि 1968 में यह ग्रामाफोन उनके पिता शेख अहमद मुंबई से खरीदकर लाए थे। इसमें 70 आरपीएम का रिकॉर्डर लगता है। वर्तमान में प्रचलित सीडी का इसे बड़ा रूप माना जा सकता है।इस ग्रामाफोन पर आज भी पुराने गाने सुने जाते हैं। हायर सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य मोहम्मद नौशाद शेख के पास ब्रिटिशकाल, फारुखी, मराठा, मुगलकाल की और भी नायाब धरोहरें हैं। इनमें उस जमाने के सुनहरे सिक्के, चांदी व अन्य धातुओं के बर्तन, औजार, लैंप, पानदान आदि शामिल हैं। इन्हें प्रदर्शनी में रखा जाएगा। इसके अलावा अन्य इतिहासकारों के पास उपलब्ध संग्रह को भी प्रदर्शित किया जाएगा।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Manish Pandey

June 15, 2019 05:37 UTC


संघर्ष / बेजोस के जन्म के वक्त मां के पास फोन के खर्च लायक पैसे नहीं थे, 13000 रु. की नौकरी करती थीं

अमेजन के फाउंडर और सीईओ जेफ बेजोस (55) आज दुनिया के सबसे बड़े अमीर हैं। उनकी नेटवर्थ 117 अरब डॉलर (8.19 लाख करोड़ रुपए) है। पिछले साल उन्होंने 14000 करोड़ रुपए दान में दिए थे। लेकिन, 1964 में जन्म के वक्त उनकी मां जैकलिन (72) के पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वे फोन का खर्च उठा सकें। बेजोस को पालने के लिए जैकलिन 190 डॉलर (13000 रुपए) महीने की टाइपिस्ट की नौकरी करती थीं। जैकलिन ने बीते रविवार को कैंब्रिज कॉलेज में दिए भाषण में ये बातें कहीं जिन्हें जेफ बेजोस ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है।जैकलिन ने बताया- बेजोस के जन्म के वक्त मैं 17 साल की थी और हाईस्कूल की पढ़ाई कर रही थी। कम उम्र में मां बनने की वजह से स्कूल प्रबंधन ने पढ़ाई पूरी करने से रोक दिया। मैं संघर्ष करती रही और आखिर स्कूल मैनेजमेंट को राजी कर लिया। लेकिन, सख्त और अमानवीय शर्तों के साथ मुझे परमिशन मिली। पहली शर्त थी- मुझे शुरुआती बेल बजने के 5 मिनट में स्कूल में एंट्री करनी होती थी, आखिरी बेल के 5 मिनट में बाहर निकलना होता था। दूसरी शर्त- मैं दूसरे स्टूडेंट्स से बात नहीं कर सकती थी। तीसरी- कैफेटेरिया में लंच की इजाजत नहीं थी। चौथी शर्त- डिप्लोमा लेने के लिए मैं दूसरे स्टूडेंट्स की तरह स्टेज पर नहीं जा सकती थी।नाइट क्लास में बेजोस को साथ ले जाती थीं जैकलिन बेजोस के जन्म के 17 महीने बाद ही जैकलिन का टेड जॉर्गनसन (जेफ बेजोस के जैविक पिता) से तलाक हो गया था। जैकलिन ने पढ़ाई जारी रखने के लिए नाइट स्कूल में एडमिशन लिया। वे उन प्रोफेसर की क्लास में जाती थीं जो उन्हें बेजोस को साथ लाने की इजाजत देते थे। जैकलिन ने बताया- मेरे पास दो बैग रहते थे, एक में किताबें, डायपर और पानी की बोतल रखती थी। दूसरे में जेफ के खिलौने होते थे।

June 15, 2019 05:36 UTC


Hindi Samachar: आंध्र प्रदेश: विजयवाड़ा हवाईअड्डे पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी - andhra pradesh former cm n chandrababu naidu frisked by security at vijayawada airport

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्य में विपक्ष के नेता एन चंद्रबाबू नायडू को शुक्रवार देर रात गन्नवरम हवाई अड्डे पर तलाशी से गुजरना पड़ा। नायडू को विमान तक जाने के लिए वीआईपी सुविधा से भी वंचित कर दिया गया और आम यात्रियों के साथ बस में यात्रा करनी पड़ी। एक सुरक्षा गार्ड को सुरक्षा प्रवेश द्वार पर नायडू की तलाशी लेते देखा गया।तेलुगू देशम पार्टी के प्रमुख को विमान तक वीआईपी वाहन से पहुंचने की अनुमति भी नहीं दी गई। इस घटना पर टीडीपी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और आरोप लगाया गया कि बीजेपी और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी बदले की राजनीति कर रही हैं। टीडीपी नेता और राज्य के पूर्व गृह मंत्री चिन्ना राजप्पा ने कहा कि अधिकारियों का रवैया न केवल अपमानजनक था, बल्कि उन्होंने नायडू की सुरक्षा के साथ भी समझौता किया क्योंकि उन्हें ‘जेड प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है।उन्होंने कहा कि नायडू को कभी भी इस स्थिति का सामना नहीं करना पड़ा। उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार से नायडू की उचित सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की। बता दें कि नायडू माओवादियों के निशाने पर हैं, इसीलिए उन्‍हें जेड प्‍लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई है। टीडीपी ने यह भी आरोप लगाया कि नायडू के काफिले में चलने वाली दो गाड़‍ियों को भी हाल ही में हटा लिया गया है।

June 15, 2019 05:35 UTC


दिल्ली में कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ डॉ. मनमोहन सिंह ने की बैठक

दिल्ली में कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ डॉ. मनमोहन सिंह ने की बैठकनई दिल्ली, एएनआइ। दिल्ली में आज पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह ने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ एक बैठक की। इस बैठक में कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामीस राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने डॉ. मनमोहन सिंह के साथ बैठक की। हालांकि इस बैठक में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बीमार होने की वजह से भाग नहीं ले सके।Delhi: Former PM Dr Manmohan held a meeting with Congress ruled state Chief Ministers at party office today. pic.twitter.com/8uafm0yB5v — ANI (@ANI) June 15, 2019नीति आयोग की आज पहली बैठकएक तरफ जहां कांग्रेस के डॉ.

June 15, 2019 05:33 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       VMware

Loading...