बयान / मिशेल की तरह वापस लाए जाएंगे माल्या-नीरव-चौकसी, पाई-पाई वसूल करेगी सरकार: जावड़ेकर

Dainik Bhaskar Jan 22, 2019, 02:18 PM IST3600 करोड़ के अगस्ता-वेस्टलैंड घोटाले में बिचौलिए क्रिश्चियन का प्रत्यर्पण हुआ13,700 करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले में आरोपी हैं नीरव मोदी और मेहुल चौकसीशराब कारोबारी माल्या भगोड़ा घोषित है, उस पर 17 बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपए बकायामाल्या मार्च 2016 में लंदन भाग गया था, नीरव-चौकसी जनवरी 2018 में विदेश भागे थेजयपुर. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मेहुल चौकसी, नीरव मोदी और विजय माल्या जैसे भगोड़ों को भी क्रिश्चियन मिशेल की तरह भारत वापस लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार इनसे जनता की लूटी हुई पाई-पाई वसूल करेगी। जावड़ेकर 13,700 करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चौकसी के भारतीय पासपोर्ट सरेंडर करने पर पूछे गए सवाल पर जवाब दे रहे थे। इस घोटाले में नीरव मोदी भी आरोपी है। उधर, माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ बकाया है। तीनों देश छोड़कर भाग चुके हैं।3600 करोड़ रुपए के अगस्ता-वेस्टलैंड घोटाले में क्रिश्चियन मिशेल ने बिचौलिए की भूमिका निभाई थी। भारत सरकार ने दुबई से मिशेल का प्रत्यर्पण कराया था।कांग्रेस सरकार में नहीं भागे, मोदी के आने पर भाग गए: जावड़ेकर

January 22, 2019 08:48 UTC


जहरीली शराब / महिला को खेत में मिली शराब की बोतल, घर आकर दामाद के साथ पी, दोनों की मौत

ग्रामीणों के अनुसार चांपा के रामा कंवर की शादी घुठिया में हुई है। वह चांपा छोड़कर अपने परिवार के साथ अपने ससुराल घुठिया में रहता था। चार दिन पहले गांव में मड़ई मेला का अायोजन किया गया था। जिसमे शामिल होने के लिए उरगा थाना क्षेत्र के ग्राम बरीडीह निवासी उसका दामाद घुठिया आया था। सोमवार की सुबह रामा कंवर की पत्नी जामबाई कंवर (45 साल) टॉयलेट के लिए बाहर गई थी। उसी तरफ उसे शराब की शीशी मिली। जिसे लेकर वह घर आ गई।बेटे ने बताया शराब पीकर पड़े थे दोनोंघर अाकर शराब को जामबाई और उसके दामाद घनश्याम सिंह (30 वर्ष) पिता अनूप सिंह कंवर ने पी ली। शराब पीने के बाद दोनों की हालत बिगड़ गई। चांपा टीआई राजेश चौधरी ने बताया कि मिशन अस्पताल चांपा में डॉक्टर ने दोनों को डेड घोषित कर दिया। अनुसार मृतका जामबाई के बेटे कमलेश सिंह ने बताया कि सुबह 7:30 बजे जब वह नहाकर घर पहुंचा तो उसकी मां जामबाई घर के आंगन में पड़ी थी, उसके मुंह से झाग बह रहा था। वहीं उसका जीजा घनश्याम कंवर घर के बाहर बेहोश पड़ा था। दोनों को अस्पताल पहुंचाया गया जहां दोनों की मौत हो गई।

January 22, 2019 08:45 UTC


इस बार 22% महिलाओं का प्रतिनिधित्व, भारतीय डेलिगेशन में 13% महिलाएं - Dainik Bhaskar

Dainik Bhaskar Jan 22, 2019, 04:31 PM ISTवर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की मंगलवार से शुरुआत हुई, सम्मेलन 25 जनवरी तक चलेगालगातार 5वें साल महिलाओं की संख्या में इजाफा, पिछले साल यह आंकड़ा 21% रहा थाफोरम में 119 देश शामिल, नॉर्वे के डेलिगेशन में सबसे ज्यादा 37% महिलाएंबिजनेस डेस्क. दावोस में आयोजित वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) में इस बार 22% महिलाएं हिस्सा ले रही हैं। पिछले साल 21% महिलाएं शामिल हुई थीं। इस साल फोरम में शामिल कुल 3,000 प्रतिनिधियों में से 696 महिलाएं हैं। फोरम में 119 देशों के डेलिगेशन हिस्सा ले रहे हैं। नॉर्वे के डेलिगेशन में महिला प्रतिनिधियों की संख्या सबसे ज्यादा 37% है। भारतीय डेलिगेशन में महिलाओं की हिस्सेदारी 13.2% है।वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में महिला को-चेयर की संख्या में लगातार तीसरे साल इजाफा हुआ है। इस बार 7 में से 4 को-चेयर महिलाएं हैं। इनमें इराक की बासिमा अब्दुलरहमान, जापान की अकीरा सकानो, अमेरिका की जूलिया लुसकोंबे और स्वीडन की नोरा बेरोबुआ हैं।हर साल आयोजित होने वाले वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में दुनियाभर के बिजनेस लीडर्स के साथ सरकारी अधिकारी और अलग-अलग क्षेत्र की हस्तियां जुटती हैं। इस बार की थीम ग्लोबलाइजेशन 4.0 है। यहां 4.0 का मतलब चौथी औद्योगिक क्रांति से है। सम्मेलन की शुरुआत मंगलवार को हो चुकी है। यह 25 जनवरी तक चलेगा।इस बार 6 युवा को-चेयर

January 22, 2019 08:42 UTC


Cryptomining impacted 37% organisations worldwide in 2018

While ransomware attacks declined in 2018, cryptominers dominated the malware landscape and impacted 37 per cent organisations worldwide, Israel-based cybersecurity solutions provider Check Point Software Technologies said in a report here on Tuesday.According to "Check Point's 2019 Security Report", despite a fall in the value of all cryptocurrencies, 20 per cent of the companies continued to be hit by cryptomining attacks every week.In 2018, cryptominers occupied the types of top four most prevalent malware.On the other hand, ransomware usage fell sharply in 2018, impacting just 4 per cent of organisations globally. "From the meteoric rise in cryptomining to massive data breaches and DDoS attacks, there was no shortage of cyber-disruption caused to global organisations over the past year," Peter Alexander, Chief Marketing Officer of Check Point Software Technologies, said in a statement. "These multi-vector, fast-moving, large-scale 'Gen V' attacks are becoming more and more frequent, and organisations need to adopt a multi-layered cybersecurity strategy that prevents these attacks from taking hold of their networks and data. "The 2019 Security Report offers knowledge, insights and recommendations on how to prevent these attacks," he added.The report examines the latest emerging threats against various industry sectors, and gives a comprehensive overview of the trends observed in the malware landscape, in emerging data breach vectors, and in nation-state cyber-attacks.Mobiles were found as a moving target. Over 30 per cent of organisations worldwide were hit by mobile malware, with the leading three malware types targeting the Android OS.2018 saw several cases where mobile malware was pre-installed on devices, and apps available from app stores that were actually malware in disguise, the report said.Bots were the third most common malware type, with 18 per cent of organisations hit by bots which are used to launch DDoS attacks and spread other malware.

January 22, 2019 08:37 UTC


उत्तरप्रदेश / चुनावी गणित ठीक करने के लिए कांग्रेस को महागठबंधन से बाहर रखा- अखिलेश

समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश का चुनावी गणित ठीक करने के लिए सपा-बसपा गठबंधन से कांग्रेस को बाहर रखा गया है। भाजपा को हराने के लिए यह फैसला जरूरी था। उनका कहना था कि राहुल गांधी के लिए उनके दिल में बहुत सम्मान है, लेकिन कांग्रेस को महागठबंधन में शामिल करने का फैसला चुनाव के बाद के हालात देखकर लिया जाएगा।अखिलेश का कहना था कि उत्तरप्रदेश की सीटों को हटा दें तो मोदी सरकार अल्पमत में आ जाएगी। इस अंकगणित को देखते हुए उन्होंने बसपा से गठबंधन किया। उनका कहा था कि अपने कार्यकाल के दौरान उत्तर प्रदेश में जमकर विकास कार्य कराए थे पर चुनावी गणित बिगड़ने से वो 2017 का विधानसभा चुनाव हार गए। अखिलेश का सवाल था कि क्या दूसरों को खुश करने के लिए सीटें हारनी चाहिए? उत्तरप्रदेश में लोकसभा की कुल 80 सीटें हैं। सपा-बसपा ने फैसला लिया है कि दोनों दल 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। दो सीटें राष्ट्रीय लोकदल को मिली हैं, जबकि अमेठी और रायबरेली कांग्रेस को दी गई हैं। इसके बाद कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। अखिलेश का कहना था कि ये कांग्रेस का अपना निर्णय है। महागठबंधन का मुख्य मकसद भाजपा को हराना है।‘अमेठी, रायबरेली में नहीं उतारेंगे अपने उम्मीदवार’ अखिलेश का कहना है कि कांग्रेस के उत्तरप्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद भी वो अमेठी, रायबरेली सीट पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। उनका कहना था कि कांग्रेस को दो सीटें देने से सपा-बसपा के वोट शेयर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। कांग्रेस के साथ उनके अच्छे संबंध हैं, लेकिन यह एक अलग मुद्दा है। इसका चुनावी गणित से सरोकार नहीं है।अखिलेश का कहना था कि उन्हें यकीन है कि कोलकाता में आयोजित रैली में आए सभी क्षेत्रीय दल चुनाव बाद भी एक साथ रहेंगे। उस सवाल को सपा प्रमुख टाल गए, जिसमें उनसे पूछा गया था कि प्रधानमंत्री पद के लिए वो ममता बनर्जी और मायावती में से किसे बेहतर मानते हैं। उनका जवाब था कि इन मसलों पर चुनाव बाद चर्चा हो सकती है। अभी वो इतना ही कहेंगे कि देश को नए प्रधानमंत्री की जरूरत है।

January 22, 2019 08:37 UTC


ओडिशा / कंधमाल जिले में 60 फीट गहरी खाई में गिरा ट्रक; 10 की मौत, 35 से ज्यादा जख्मी

Dainik Bhaskar Jan 22, 2019, 09:40 PM ISTमुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए मुआवजे का एलान कियाट्रक सवार एक कार्यक्रम में शामिल होने गादापुर से ब्राह्मणी गांव जा रहे थेट्रक में करीब 50 लोग सवार थे, घायलों का ब्रह्मणी और बेरहमपुर में इलाज चल रहाकंधमाल. ओडिशा में कंधमाल जिले के बालीगुदा के पास मंगलवार सुबह एक ट्रक पलटकर करीब 60 फीट गहरी खाई में जा गिरा। हादसे में आठ की घटनास्थल पर, जबकि दो की इलाज के मौत हो गई। 35 से ज्यादा जख्मी हैं। गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को बेरहमपुर के महाराजा कृष्णचंद गजपति (एमकेसीजी) मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। मामूली रूप से जख्मी हुए लोगों का ब्राह्मणी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज चल रहा है।पुलिस के मुताबिक, ट्रक में सुलुमा क्षेत्र के करीब 50 लोग सवार थे। वह चर्च के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गादापुर से ब्राह्मणी गांव जा रहे थे।इस दुर्घटना पर दुःख जताते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए मुआवजा देने का एलान किया। साथ ही घायलों के लिए निःशुल्क इलाज की घोषणा भी की।

January 22, 2019 08:32 UTC


गढ़चिरौली में नक्सलियों का तांडव, मुखबिरी के शक में तीन की हत्या कर सड़क पर फेंके शव

गढ़चिरौली में नक्सलियों का तांडव, मुखबिरी के शक में तीन की हत्या कर सड़क पर फेंके शवछत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र सीमा पर गढ़चिरौली जिले के कसनसूर गांव में नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में तीन ग्रामीणों की हत्या कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक नक्सलियों ने गांव में दहशत फैलाने के लिए तीनों ग्रामीणों की हत्या करके लाशों को सड़क पर फेंक दिया। फिलहाल पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर मामला दर्ज कर लिया है।मिली जानकारी के मुताबिक बड़ी संख्या में रात के वक्त गांव आए नक्सलियों ने तीनों ग्रामीणों को उनके घर से अगवा किया और फिर सड़क पर ले जाकर उनकी हत्या कर दी। घटनास्थल पर नक्सलियों ने पर्चे भी फेंके हैं, जिनमें मारे गए ग्रामीणों पर मुखबिरी का आरोप लगाया है। इस घटना के बाद पुलिस ने अलर्ट जारी कर दिया है।घटना के बाद इलाके में सर्च अभियान तेज कर दिया गया है। घटनास्थल से लगे छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव और कांकेर जिलों में भी अलर्ट जारी किया गया है। महाराष्ट्र पुलिस के साथ मिलकर छत्तीसगढ़ पुलिस सीमावर्ती क्षेत्रों में सघन अभियान चलाए हुए है।Posted By: Digpal Singh

January 22, 2019 08:32 UTC


Amit Shah Rally in West Bengal: अमित शाह ने मालदा में की रैली, कहा- बंगाल में नहीं तो क्या PAK जाकर करें दुर्गा विसर्जन - Dainik Bhaskar

नेशनल डेस्क. Amit Shah Rally in West Bengal :बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने के मालदा से प्रचार अभियान की शुरुआत की। रैली को महागठबंन के खिलाफ एक शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखा गया। पश्चिम बंगाल का मालदा जिला कांग्रेस के दिवंगत दिग्गज नेता गनी खान चौधरी का मजबूत इलाका रहा माना जाता है, जहां लेफ्ट से लेकर ममता बनर्जी तक का जादू नहीं चल सका। रैली में शाह ने कहा- ममता सरकार ने भाजपा की रथ यात्रा को अनुमति नहीं दी। ममता को डर था कि रथ यात्रा निकलती तो यह उनकी सरकार की यह अंतिम यात्रा होती।'बंगाल में नहीं तो क्या PAK जाकर करें दुर्गा विसर्जन' : अमित शाह ने कहा कि बंगाल में नहीं तो क्या PAK जाकर दुर्गा विसर्जन करें। उन्होंने महागठबंधन की रैली पर निशाना साधा कि वहां पर भारत माता की जय का नारा नहीं लगा। अमित शाह ने कहा कि ये स्वार्थ का गठबंधन है।मालदा को ही क्यों चुना : पश्चिम बंगाल का मालदा जिला की सीमा से सटा हुआ है। यहां आदिवासी और हिंदू वोटर्स की अच्छी खासी संख्या है। ऐसे में बीजेपी को उम्मीद है कि उसे यहां से अच्छा सपोर्ट मिल जाएगा।- यहां 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 17 फीसदी वोट मिले थे। मालदा दक्षिण सीट पर 2014 के चुनाव में बीजेपी दूसरे नंबर पर रही थी। इसके अलावा 2018 में हुए पंचायत चुनाव में मालदा की 500 से ज्यादा सीटों पर BJP ने जीत हासिल की।होटल के पास लैंड हुआ शाह का हेलिकॉप्टर : रैली के लिए आ रहे अमित शाह को मालदा एयरपोर्ट पर हेलिकॉप्टर लैंडिंग की परमीशन पश्चिम बंगाल की सरकार ने नहीं दिया। सरकार की तरफ से कहा गया कि एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य चल रहा है इसलिए हेलिकॉप्टर की लैंडिंग नहीं दी जा सकती है। इसके बाद बीजेपी ने इस फैसले को राजनीतिक साजिश बताया तो ममता सरकार ने मालदा में एक निजी होटेल के पास शाह के हेलिकॉप्टर उतारने की अनुमति दे दी।

January 22, 2019 08:31 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care

Loading...