अपनी पुरानी तस्वीर शेयर करते हुए भारतीय कप्तान विराट ने बताया 'अपनी सफलता का मंत्र'

नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपनी कप्तानी में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीती। इससे पहले इंग्लैंड दौरे पर वो टेस्ट व वनडे सीरीज नहीं जीत पाए लेकिन उन्होंने वहां जमकर रन बनाए। विराट अब लगातार कई रिकॉर्ड्स अपने नाम पर करते जा रहे हैं और इस वक्त दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं। इसमें कोई शक नहीं कि विराट इस वक्त काफी सफल हैं और उनकी ये सफलता उन्हें किस वजह से मिली है ये बात उन्होंने ट्विटर के जरिए अपने फैंस के साथ शेयर की।विराट ने ट्विटर पर अपनी पुरानी तस्वीर पोस्ट की और उसके साथ लिखा कि मेहनत और फोकस के दम पर कुछ भी करना संभव है। आप काम करते रहें और खुद पर भरोसा रखें। विराट के इस बात का साफ मतलब निकलता है कि अपने करियर में उन्होंने जो कुछ भी हासिल किया है वो सिर्फ और सिर्फ उनकी मेहनत का नतीजा है। विराट ने जो तस्वीरें शेयर की हैं उनमें से पहली तस्वीर में वो काफी मासूम से नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरे तस्वीर में उनकी परिपक्वता चेहरे पर झलक रही है।With focus and hard work, anything is possible. Keep working, keep believing. Have a super day everyone. 💪🏃‍♂️🏃‍♂️ pic.twitter.com/x3a0ODbpeW— Virat Kohli (@imVkohli) October 15, 2018विराट कोहली ने वनडे में अब तक 35 जबकि टेस्ट में वो 24 शतक लगा चुके हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में जीत के बाद अब भारतीय टीम उनकी अगुआई में पांच वनडे मैचों की सीरीज खेलेगी और उसके बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम इंडिया को टी 20 मैचों की सीरीज खेलनी है। इस क्रिकेट सीरीज के खत्म होने के बाद भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाएगी जिसे टीम इंडिया के लिए मुश्किल दौरा माना जा रहा है।Posted By: Sanjay Savern

October 15, 2018 15:33 UTC


Priya Ramani issues statement: metoo: ready to fight, says priya ramani on case filed by mj akbar - #Metoo: एमजे अकबर के नोटिस पर प्रिया रमानी, सत्य के सहारे लड़ूंगी केस

My statement https://t.co/1W7M2lDqPN — Priya Ramani (@priyaramani) 1539607860000केंद्रीय राज्यमंत्री एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी ने कहा है कि वह राज्यमंत्री द्वारा भेजे गए मानहानि नोटिस का सामना करने के लिए तैयार हैं और उनके पास इससे लड़ने का पूर्ण सत्य ही एकमात्र हथियार है।एमजे अकबर द्वारा आपराधिक मानहानि का नोटिस भेजने के कुछ घंटे बाद ही रमानी ने एक बयान जारी कर कहा, 'सत्य और पूर्ण सत्य ही उनका इसके खिलाफ एकमात्र डिफेंस है।' अपने बयान में रमानी ने कहा, 'मैं इस बात से बेहद दुखी हूं कि केंद्रीय मंत्री ने कई महिलाओं द्वारा लगाए गए आरोपों को राजनीतिक षडयंत्र बताते हुए खारिज कर दिया। मेरे खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला बनाकर अकबर ने अपना स्टैंड साफ कर दिया है। अपने खिलाफ कई महिलाओं द्वारा लगाए गए गंभीर अपराधों पर सफाई देने की बजाए वह उनको धमकाकर और प्रताड़ित कर चुप कराने की कोशिश करते दिख रहे हैं।'रमानी ने केंद्रीय मंत्री द्वारा रविवार को जारी बयान की आलोचना करते हुए कहा कि, 'अकबर द्वारा हाल में जारी बयान ने पीड़ितों की पीड़ा और भय का तनिक भी ध्यान नहीं रखा या उन्होंने सच बोलने की जरूरी ताकत नहीं दिखाई।' बता दें कि एमजे अकबर पर करीब एक दर्जन महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। इसके बाद विपक्षी दल जोर-शोर से उनके इस्तीफे की मांग कर रहे थे। फिर रविवार को अकबर ने खुद सामने आकर सफाई दी थी। इस्तीफे की मांग को नजरअंदाज करते हुए विदेश राज्यमंत्री एम.जे. अकबर ने कहा था कि उनके खिलाफ आरोप झूठे और निराधार हैं। उन्होंने आरोप लगाने वाली महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई करने की बात भी कही थी।ट्विटर पर पोस्ट अपने बयान में रमानी ने कहा, 'पिछले दो सप्ताह में पत्रकार समेत अलग-अलग क्षेत्रों की महिलाओं ने वर्कप्लेस पर कई एडिटरों, राइटर्स और फिल्म मेकर्स के खिलाफ यौन उत्पीड़न के कई आरोप लगाए हैं। इससे पता चलता है कि पिछले कुछ सालों में महिलाओं का धीरे-धीरे ही सही पर सशक्तिकरण हो रहा है। #Metoo मूवमेंट ने उन्हें आवाज दी है।'उन्होंने आगे लिखा है, 'जब ये घटनाएं हुईं तब अकबर के खिलाफ शिकायत करने वाली महिलाएं उनके अधीन काम करती थीं। जिसने भी अकबर के खिलाफ बोलने की हिम्मत की उसने अपने निजी और प्रफेशनल जिंदगी को खतरे में डाला है। इस समय यह पूछना कि इस बारे में शिकायत अभी क्यों की जा रही है, सही नहीं होगा क्योंकि हम सभी को यह पता है कि पीड़ितों के सेक्सुअल आरोपों के बाद की शर्मिंदगी परेशान करने वाली होती है। इन महिलाओं के आरोपों पर सवाल उठाने की जगह हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वर्कप्लेस पर आने वाले जेनरेशन के लिए हम कैसे स्तर को सुधार सकते हैं।'दैनिक अखबार ‘द टेलीग्राफ’ और पत्रिका ‘संडे’ के संस्थापक संपादक रहे अकबर 1989 में राजनीति में आने से पहले मीडिया में एक बड़ी हस्ती के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा था और सांसद बने थे। अकबर 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए थे। मध्य प्रदेश से राज्यसभा सदस्य अकबर जुलाई 2016 से विदेश राज्य मंत्री हैं।

October 15, 2018 15:16 UTC


मध्‍य प्रदेश के चुनावी दौरे पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी, किए मां पीतांबरा देवी के दर्शन

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को मध्य प्रदेश के दतिया में 51 शक्ति पीठों में से एक मां पीतांबरा देवी के मंदिर में दर्शन किये. ये मंदिर देश के सबसे शुभ मंदिरों में से एक है और तांत्रिक प्रथाओं के लिए जाना जाता है. यहां होने वाले पूजा संस्कार और अनुष्ठान लोगों की सफलता और उपलब्धि के लिए होते हैं.गांधी परिवार का मां पीताम्बरा देवी के मंदिर से पुराना और गहरा नाता है. यह देश की जनता की तौहीन है.राहुल ने 17 सितंबर को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कांग्रेस के अभियान के औपचारिक शुरूआत मंत्रोच्चार और कन्या पूजन के साथ किया था. बाद में उन्होंने चित्रकूट दौरे में कामतानाथ की पूजा और जबलपुर की यात्रा के दौरान नर्मदा की आरती भी की.

Source:NDTV

October 15, 2018 15:11 UTC


वीडियो : हाईलेवल मीटिंग में 'सो' रही थी कानून व्यवस्था, खर्राटे लेते और मोबाइल में बिजी दिखे ऑफिसर्स

पटना। सुरक्षा की बातों पर हावी थी सुस्ती, अधिकारी का हाव-भाव बयान कर रहा था कि मीटिंग में सुनना नहीं सोना है। दरअसल पटना के बापू सभागार में संयुक्त ब्रीफिंग का आयोजन किया गया था। इस हाईलेवल मीटिंग में पटना के तमाम आला अधिकारी मौजूद थे। दुर्गा पूजा और रावण वध को लेकर पटना के बापू सभागार में आयुक्त और जिलाधिकारी कुमार रवि और डीआईजी के साथ वरीय पुलिस अधीक्षक मनु महाराज संयुक्त ब्रीफिंग कर रहे थे। लेकिन मीटिंग में अधिकांश अधिकारी सो रहे थे। तो कुछ अधिकारी अपने मोबाइल में बिजी नजर आए रहे थे। अधिकारियों की मी़टिंग का सुस्तीभरा वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।दशहरा पर कई स्थानों पर रावण वध के कार्यक्रमों में भारी भीड़ इकट्ठा होने के अनुमान हैं। इस संयुक्त ब्रीफिंग में अधिकारियों द्वारा दिशा-निर्देश दिए जा रहे थे। सभी को ट्रैफिक व्यवस्था सुचारू रूप से चलाने के निर्देश भी दिए गए। लेकिन अधिकारियों को सो का आनंद ले रहे थे। एक तरफ जिला प्रशासन के मुखिया और वरीय पुलिस अधीक्षक इसके लिए मुस्तैदी से काम कर रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ जिनके कंधों पर कानून व्यवस्था को संचालित करने की जिम्मेदारी है वो सुस्त नजर आ रहे थे।

October 15, 2018 15:11 UTC


21 वर्ष के बाद दोस्ताना मुकाबले में चीन से भिड़ा भारत, मैच रहा ड्रॉ

बीजिंग, प्रेट्र। चीन के फुटबॉल समर्थक अपनी टीम द्वारा भारत के खिलाफ दोस्ताना मुकाबले में गोलरहित ड्रॉ खेलने और स्कोर नहीं कर पाने से नाराज हैं। शनिवार को दोनों देशों के बीच सुझोऊ में 21 साल बाद कोई फुटबॉल मुकाबला खेला गया, जहां भारतीय टीम ने अपने से बेहतर रैंकिंग वाली चीनी टीम को गोल करने से रोक दिया। भारत के इस प्रदर्शन की जमकर तारीफ हो रही है। वहीं, सोमवार को मीडिया में आई खबरों के मुताबिक गोलरहित ड्रॉ से चीन के प्रशंसक अपनी टीम से खफा हैं। चीन सेंट्रल टेलीविजन (सीसीटीवी) के फुटबॉल कमेंटेटर हे वेइ ने मैच के बाद कहा कि यह देखना बहुत दुर्भाग्यशाली है कि तीन अरब की आबादी में ये 30 सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं। फीफा रैंकिंग में भारत 97वें, जबकि चीन 76वें स्थान पर है।वर्मालेन छह सप्ताह के लिए बाहरबार्सिलोना, एएफपी : बार्सिलोना के डिफेंडर थॉमस वर्मालेन चोट की वजह से करीब छह सप्ताह के लिए मैदान से बाहर रहेंगे। 32 वर्षीय बेल्जियम के इस डिफेंडर को नेशंस लीग के दौरान पिछले शुक्रवार को स्विट्जरलैंड के खिलाफ मुकाबले में पैर में खिंचाव आ गया था। 2014 में बार्सिलोना से जुड़ने के बाद वर्मालेन को कई मौकों पर चोट का शिकार होना पड़ा है। क्लब के मुताबिक वर्मालेन की टेस्ट रिपोर्ट से पता चला है कि उन्हें दायें पैर में खिंचाव की शिकायत है। वह करीब छह सप्ताह के लिए मैदान से बाहर रहेंगे। वर्मालेन की चोट ने बार्सिलोना की डिफेंस में मुश्किलें और बढ़ा दी हैं क्योंकि क्लब के सेंटर बैक सैमुअल उमतिति पहले ही चोटिल हैं।Posted By: Sanjay Savern

October 15, 2018 15:11 UTC


बिराघी के गोल से जीता इटली, यूएफा नेशंस लीग में पोलैंड को 1-0 से हराया

चोर्जोव (पोलैंड), एएफपी। क्रिस्टियानो बिराघी द्वारा आखिरी लम्हों में किए गए गोल की मदद से यूएफा नेशंस लीग में इटली ने पोलैंड को 1-0 से हरा दिया। रविवार को लीग-ए के ग्रुप-3 मुकाबले में इस जीत के साथ इटली ने टूर्नामेंट में अपनी उम्मीदें कायम रखीं।नए कोच रोबर्टो मानसिनी की देखरेख में यह इटली की पहली जीत है। 26 वर्षीय डिफेंडर बिराघी ने इंजुरी टाइम के दूसरे मिनट में मुकाबले का इकलौता और निर्णायक गोल दागा। यह इटली के लिए बिराघी का पहला अंतरराष्ट्रीय गोल है। नौ अक्टूबर 2017 को किसी प्रतियोगी मुकाबले में पिछली बार चार बार के विश्व चैंपियन इटली को जीत हासिल हुई थी।पिछले विश्व कप के लिए इटली क्वालीफाई नहीं कर पाया था, जिसके बाद इस साल मई में मानसिनी को इटली का कोच बनाया गया था। जीत के बाद मानसिनी ने कहा कि नए चक्र की शुरुआत पहले ही हो चुकी है। हमने मुकाबले में अपना दबदबा बनाए रखा। अगर मुकाबला 0-0 रहता तो यह हमारे लिए सही नहीं होता। सभी लड़के अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं। यह एक अच्छे मुकाबले में अच्छी जीत रही।फेरोंटीना के डिफेंडर बिराघी ने 13 नंबर का इशारा करते हुए गोल का जश्न मनाया। दरअसल वह इटली और फेरोंटीना के पूर्व कप्तान डेविड एस्टोरी को अपना पहला गोल समर्पित कर रहे थे जिनकी मृत्यु पिछले मार्च में हृदय गति रूक जाने की वजह से हो गई थी। डेविड 13 नंबर की जर्सी पहना करते थे। बिराघी ने कहा कि मैंने उन्हीं से सब कुछ सीखा है। मैं अपने मेंटर डेविड को धन्यवाद देना चाहूंगा।लीग-ए के ग्रुप-3 में यूरोपीय चैंपियन पुर्तगाल दो मुकाबलों के बाद छह अंकों के साथ शीर्ष पर है। वहीं इटली तीन मुकाबलों के बाद चार अंकों के साथ दूसरे स्थान पर, जबकि तीसरे स्थान पर काबिज पोलैंड के पास केवल एक अंक है और वह तीन टीमों के इस ग्रुप में सबसे नीचे है। अब इटली को इस टूर्नामेंट में अपना अगला मुकाबला पुर्तगाल के खिलाफ 17 नवंबर को खेलना है, जबकि उसके तीन दिन बाद पोलैंड की टीम पुर्तगाल के खिलाफ मैदान में उतरेगी।Posted By: Sanjay Savern

October 15, 2018 15:07 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care

Loading...